Friday, 13 May 2016

JANSAMPARK NEWS 12-5-16

मुख्यमंत्री तीर्थदर्शन योजनान्तर्गत आवेदन आमंत्रित 
जिले के तीर्थयात्री वैष्णोदेवी, अजमेर और तिरूपति जायेंगे 
बुरहानपुर | 12-मई-2016
मुख्यमंत्री तीर्थदर्शन योजनान्तर्गत जिले से वैष्णोदेवी, अजमेर और तिरूपति यात्रा के लिये कार्यक्रम प्राप्त हुआ है। जिसमें वैष्णोदेवी यात्रा 28 मई से 2 जून 2016 तक जायेगी। इस हेतु आवेदन पत्र 18 मई 2016 तक प्राप्त किये जायेगें। वहीं अजमेर के लिये 22 जून से 25 जून तक यात्रा जायेगी। इसके लिये आवेदन पत्र 10 जून 2016 तक लिये जायेगें और तिरूपति यात्रा 28 जून से 3 जुलाई तक रहेगी। इसके लिये आवेदन पत्र 13 जून तक प्राप्त किये जायेगें। 
   जिला पंचायत सीईओ श्री बसंत कुर्रे ने उक्त जानकारी दी। उन्होनें बताया कि इस हेतु आवेदन पत्र नगरीय एवं ग्रामीण निकायों को प्रस्तुत कर सकते है। तीर्थदर्शन योजना हेतु नगर निगम एवं जनपद पंचायत बुरहानपुर, जनपद पंचायत खकनार, नगर पालिका नेपानगर, नगर परिषद् शाहपुर कार्यालय में कार्यालयीन समय में जमा कर सकते है। सीईओ श्री कुर्रे ने सभी निकायों को यात्रियों के आवेदन पत्र निर्धारित तिथि में प्राप्त कर जिला पंचायत कार्यालय बुरहानपुर आवश्यक रूप जमा करवाने के निर्देश दिये है।
सिर्फ एक क्लिक पर मिल रही है सिंहस्थ संबंधी हर जानकारी 

बुरहानपुर | 12-मई-2016
सिंहस्थ महाकुंभ में शामिल होने के इच्छुक और उज्जैन पहुँचे श्रद्धालुओं को सिंहस्थ से संबंधित कोई भी जानकारी जुटाने के लिए परेशान नहीं होना पड़ रहा है। वे सिंहस्थ की वेबसाइट पर क्लिक कर इससे जुड़ी सभी जानकारी हासिल कर रहे हैं। 
    जनसम्पर्क विभाग द्वारा तैयार की गई इस वेबसाइट पर महाकालेश्वर, उज्जैन कलेक्टर, मध्यप्रदेश पर्यटन, रेलवे आदि महत्वपूर्ण लिंक भी मौजूद हैं। गूगल मेप भी उज्जैन घूमने में मददगार साबित हो रहा है। सिंहस्थ की लिंक पर क्लिक कर महाकाल के लाइव दर्शन भी कर सकते हैं। इसका लाभ वे श्रद्धालु ले सकते हैं जो किसी कारणवश उज्जैन नहीं पहुँच पा रहे हैं। वेबसाइट पर सिंहस्थ के सम्पूर्ण सन्दर्भ उपलब्ध हैं। महाकाल की नगरी, श्रीकृष्ण की शिक्षा का केन्द्र, महाकवि कालिदास की भूमि, राजा विक्रमादित्य की नगरी, उज्जैन के इतिहास को जानना हो या फिर किन-किन घाटों पर स्नान की व्यवस्था रहेगी, किन तारीखों में विशेष स्नान होंगे, यह सब कुछ आप इस वेबसाइट पर जान सकते हैं। इस पर सर्फिंग करते हुए सिंहस्थ महापर्व, समुद्र मंथन, ज्योतिषीय महत्व, अमृतमयी क्षिप्रा नदी, घाट, अखाड़ों और सिंहस्थ-2016 की पूरी जानकारी प्राप्त हो सकेगी।
    होम पेज पर उपलब्ध सिंहस्थ लिंक पर उज्जैन कैसे पहुँचें, होटल, लॉज और धर्मशाला की जानकारी भी हैं। होम पेज पर ही उज्जैन के बारे में लिंक पर सर्च कर शहर के गौरवशाली अतीत की जानकारी प्राप्त की जा सकेगी। इसके अलावा काल गणना केन्द्र, मोक्ष नगरी, श्री महाकालेश्वर, 84 महादेव, पंचक्रोशी परिक्रमा यात्रा सहित अन्य मंदिरों के विवरण के साथ ही निकटवर्ती स्थलों की जानकारी भी इस वेबसाइट में दी गई हैं। वहीं विशिष्ट व्यक्ति की लिंक पर राजा विक्रमादित्य, सान्दीपनि ऋषि एवं महाकवि कालिदास का विवरण भी मौजूद हैं। होम पेज में ही सिंहस्थ संबंधी विकास कार्य और उनके फोटोग्राफ्स भी देखे जा सकते हैं। 
लाईसेंसधारी दुकानों से ही खाद-बीज क्रय करें 

बुरहानपुर | 12-मई-2016
खरीफ मौसम को देखते हुये कृषि विभाग द्वारा किसानों को खाद, बीज एवं दवाई का अग्रिम भंडारण कर समय पर बोनी करने की सलाह दी जा रही है। किसानों से अपील की है कि वे खाद, बीज एवं दवायें लाईसेंसीकृत विक्रेता से ही खरीदे एवं खरीदी पश्चात पक्का बिल अवश्य ले। बिना लाईसेंसधारी दुकानों से बीज, खाद एवं दवाओं का विक्रय करते पाये जाने पर तत्काल सूचना संबंधित वरिष्ठ कृषि विकास अधिकारी दें। 
    उप संचालक कृषि श्री एम.एस.देवके ने बताया कि निजी बीज व उर्वरक विक्रेताओं को उर्वरक नियंत्रण आदेश 1985 के प्रावधानों के अनुसार विक्रय के साथ केश मेमो प्रदाय करना आवश्यक है। निजी विक्रेता प्रति सप्ताह उर्वरक भंडारण, विक्रय एवं बचत की जानकारी संबंधित वरिष्ठ कृषि विकास अधिकारी को प्रदान करेंगे। वरिष्ठ कृषि विकास अधिकारी को निर्देशित किया गया है कि विक्रेताओं द्वारा उर्वरक नियंत्रण आदेश 1985 के प्रावधानों का उल्लंघन करते पाये जाते है तो अधिनियम के अनुसार संबंधितों पर तत्काल कार्यवाही की जाये।
प्याज भंडार गृह और पैक हाऊस निर्माण हेतु अनुदान उपलब्ध 

बुरहानपुर | 12-मई-2016
उद्यान विभाग द्वारा वर्ष 2016-17 की कार्ययोजना में प्याज भंडार गृह और पैक हाऊस निर्माण के लिये कृषको को अनुदान देने का प्रावधान किया गया हैं। प्याज उत्पादक कृषक द्वारा अपने यहां प्याज भंडार गृह का निर्माण किये जाने पर उत्पादित प्याज कुछ माह प्याज भंडार गृह में संग्रहित कर सकते है तथा अधिक मुल्य पर विक्रय कर अधिक मुनाफा कमा सकता हैं। इसी प्रकार अपने खेत पर पैक हाऊस का निर्माण कर अपने यहा उत्पादित फल जैसे केला, अनार, अमरूद आदि पैक हाऊस में ग्रेडिंग व पैकिंग कर अधिक दामो पर बेचकर अच्छा आर्थिक लाभ ले कमा सकता हैं। 
    उद्यान उपसंचालक सुश्री शानू मेश्राम ने बताया कि प्याज भण्डार गृह 25 मेट्रिक टन एवं 50 मेट्रिक टन क्षमता तथा विभाग के मापदंड के अनुसार पैक हाऊस निर्माण पर विभाग द्वारा अनुदान दिया जा रहा हैं। अतः उद्यानिकी कृषक अपने क्षेत्र के ग्रामीण उद्यान विस्तार अधिकारी अथवा कार्यालय उप संचालक उद्यान, संयुक्त जिला कार्यालय भवन रावेर रोड से शीघ्र सम्पर्क कर आवेदन प्रस्तुत करें। 
सामाजिक न्याय विभाग द्वारा निःशक्त विवाह प्रोत्साहन योजना संचालित 

बुरहानपुर | 12-मई-2016
नि:शक्तजनों को समाज की मुख्य धारा से जोड़ने हेतु शासन द्वारा नि:शक्त विवाह प्रोत्साहन योजना संचालित की जा रही है। इसके अंतर्गत नि:शक्तजनों के विवाह करने पर युवक-युवती दोनों के नि:शक्त होने की स्थिति में एक लाख रुपए व युवक व युवती में से किसी एक के निःशक्त होने पर 50 हजार रुपए की प्रोत्साहन राशि दिए जाने का प्रावधान है। उक्त विवाह यदि मुख्यमंत्री कन्यादान योजना अंतर्गत किया जाता है तो दंपति को 25 हजार रुपए की आर्थिक सहायता पृथक से प्राप्त हो सकेगी।
 
जिले में निःशुल्क प्रवेश प्रक्रिया ऑनलाइन 

बुरहानपुर | 12-मई-2016
जिले में निःशुल्क अनिवार्य अधिनियम को बेहतर क्रियान्वयन के लिये पोर्टल पर प्रदर्शित जिले में 141 गैर अनुदान प्राप्त अशासकीय विद्यालयों में शैक्षणिक सत्र 2016-17 हेतु निःशुल्क प्रवेश की प्रक्रिया को पारदर्शी और आसान बनाने के उद्देश्य से प्रवेश प्रक्रिया को ऑनलाइन किया जा रहा है। प्रवेश लाटरी के माध्यम से किया जायेगा। 
   सहायक परियोजना समन्वयक श्री सतीश इंगले ने जानकारी देते हुए बताया कि प्रवेश के लिये आर.टी.ई. नियमानुसार गरीबी रेखा के नीचे के परिवार, कमजोर वर्ग (बीपीएल) एवं वंचित समूह के बच्चें जैसें अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति, विमुक्त जाति, वनभूमि के पट्टेधारी के बच्चें, निःशक्त बच्चें, अनाथ बच्चों को 25 प्रतिशत गैर अनुदान प्राप्त अशासकीय विद्यालयों में ऑनलाइन लाटरी के माध्यम से प्रवेश दिया जायेगा। इसके लिये आर.टी.ई. पोर्टल पर ऑनलाइन आवेदन करना होगा। जिसमें शाला की पड़ोस की सीमा एवं विस्तारित पड़ोस की सीमा अनुसार ऑनलाइन बच्चें को एडमिशन होगा। अधिनियम के तहत कक्षा पहली में प्रवेश दिया जायेगा। यदि शाला में प्री-स्कूल शिक्षा दी जाती है तो उसकी प्रथम प्रवेशित कक्षा नर्सरी/ केजी-2 में प्रवेश दिया जायेगा। यह प्रवेश नवीन प्रवेशित बच्चों का 25 प्रतिशत रहेगा। यदि कोई शाला कक्षा 6 वी से प्रारंभ होती है तो वहां अधिनियम का यह प्रावधान लागू नही होगा। राज्य शासन द्वारा निर्धारित शुल्क का एक बच्चे की शिक्षा पर किए गऐ व्यय की सीमा तक फीस की प्रतिपूर्ति शिक्षा केन्द्र बुरहानपुर द्वारा एजुकेशन पोर्टल के माध्यम से की जायेगी। ऑनलाइन प्रक्रिया www.educationportal.mp.gov.in/rte माध्यम से की जायेगी।

No comments:

Post a Comment