Monday, 8 August 2016

JANSAMPARK NEWS 6-8-16

विदेश अध्ययन छात्रवृत्ति हेतु अनुसूचित जाति के विद्यार्थी 31 अगस्त तक दें आवेदन 
बुरहानपुर | 06-अगस्त-2016
मध्यप्रदेश शासन द्वारा अनुसूचित जाति वर्ग के छात्र-छात्राओं को विदेश में उच्च शिक्षा ग्रहण करने के लिए छात्रवृत्ति प्रदान की जाती है। चालू वर्ष 2016-17 में अनुसूचित जाति वर्ग के 50 छात्र-छात्राओं को विदेश में उच्च शिक्षा के लिए छात्रवृत्ति देने का लक्ष्य रखा गया है। इस छात्रवृत्ति के लिए अनुसूचित जाति वर्ग के युवा आगामी 31 अगस्त 2016 तक अपने आवेदन प्रस्तुत कर सकते है। आवेदक की आयु 1 जनवरी 2016 को 35 वर्ष से कम होना चाहिए और उसकी समस्त स्त्रोंतों से वार्षिक आय 6 लाख रुपये से अधिक नहीं होना चाहिए। एक ही परिवार के एक से अधिक बच्चों को छात्रवृत्ति की पात्रता नहीं होगी। आवेदन विभागीय वेबसाईट (डब्ल्यूडब्ल्यूडब्ल्यू.एससीडेव्लपमेंटएमपी.एनआयसी.इन) www.scdevelopmentmp.nic.in पर जाकर डाउनलोड किया जा सकता है। आवेदन पत्र पूर्ण भर कर अभिलेखों के साथ  स्वयं या रजिस्टर्ड डाक से आगामी 31 अगस्त तक कार्यालय आयुक्त अनुसूचित जाति विकास राजीव गांधी भवन, श्यामला हिल्स भोपाल को भेजना होगा।
नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति पर कार्यशाला सम्पन्न 

बुरहानपुर | 06-अगस्त-2016
मानव संसाधन विभाग भारत सरकार एवं आयुक्त मध्यप्रदेश शासन उच्च शिक्षा विभाग भोपाल के निर्देशानुसार शासकीय महाविद्यालय बुरहानपुर में शनिवार को नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति पर कार्यशाला आयोजित की गई। इस अवसर पर डॉ. सुशील सोमवंशी, श्रीमति सरिता शर्मा, डॉ. असरारउल्ला अंसारी, डॉ. प्रमोद गुप्ता, डॉ. प्रमोद चौधरी, प्रो. रफीक असांरी, श्री महेन्द्र राणे, श्री अंकित चौहान, श्री दुर्गेश सराठे, श्री महेन्द्र लश्करे आदि मौजूद रहे। कार्यशाला में निम्न बिन्दुओं में चर्चा की गई। जिसमें विषय विशेषज्ञों द्वारा बताया कि पूर्ण प्राथमिक शिक्षा के तहत घरेलू संस्कार, अनुशासन, घरेलू वातावरण/व्यवहार गुरूकुल/आश्रम व्यवस्था पर आधारित शालाओं की व्यवस्था करना। सुरक्षा के तहत बच्चों की गलतियो की अनदेखी नही करना चाहिए एवं उसकी गलतियो को सही तरीके से समझाना चाहिए। स्वयं एवं बच्चों के आचरण पर विशेष ध्यान। बच्चों को मोरल शिक्षा, व्यवहारिक शिक्षा एवं प्रायोगिक शिक्षा का ज्ञान होना चाहिए। बच्चों को तकनिकी ज्ञान और प्रतियोगिता में रूची होना। ऐतिहासिक एवं आधुनिक तकनिकी षिक्षा का ज्ञान प्रदान कराना। परीक्षा पद्धति में सुधार होना चाहिए। पाठ्यक्रम में बदलाव करने की जरूरत है। परीक्षा पद्धति वैकल्पिक तरिके से होना चाहिए। शिक्षा ग्रहण करने कोई उम्र नही होनी चाहिए इसमें सभी का साथ होना चाहिए। शिक्षा इस प्रकार से दी जाये, जो रोजगार प्रदान करे। शिक्षक को प्रायोगिक उदाहरण के माध्यम से वास्तविक ज्ञान देना चाहिए। शिक्षक को ज्ञान देने के लिए पढ़ाना चाहिए ना कि कमाई के लिए। उक्त बिन्दुओं पर गहनता से चर्चा की गई।
8 अगस्त को बुरहानपुर एवं खकनार के तहत 17 ग्रामों में शिविरों का होगा आयोजन 
फसल खराब होने पर बीमा राशि मिलेंगी 
बुरहानपुर | 06-अगस्त-2016
जिले में सोयाबीन, कपास, ज्वार, मक्का, तुअर, उडद, मूंग, केला, गन्ना की फसले बोई जाती है। जिसमें से कपास का रकबा 45000 हेक्टेयर, सोयाबीन 14000 हेक्टेयर, ज्वार 9500 हेक्टेयर, अरहर 8700 हेक्टेयर में बोई गई है। वर्षाकाल में फसलो पर अतिवृष्टी या अल्पवृष्टी या कीट बीमारीयों के कारण भी फसलों की उपज प्रभावित होती है। ऐसी स्थिति में शासन व्दारा फसलो का बीमा कराने की प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना प्रारंभ की गई है। उपसंचालक श्री एम.एस.देवके ने जानकारी देते हुए बताया कि योजनान्तर्गत कपास की फसल पर प्रीमियम 1500 रू. प्रति हेक्टेयर पर रू. 50 हजार, सोयाबीन फसल पर रू. 800 प्रति हेक्टेयर पर रू. 40 हजार, ज्वार फसल का प्रिमियम रू. 300 प्रति हेक्टेयर पर बीमा राशि रू. 15 हजार, एवं मक्का फसल पर रू. 400 जमा कर बीमा 20 हजार रूपये होगा। 
प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना को ऐसे समझा जा सकता है
    उपसंचालक श्री देवके ने बताया कि प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना को इस प्रकार भी समझा जा सकता है, जैसे- यदि किसान व्दारा आठ सौ रूपये सोयाबीन फसल के लिये प्रीमियम जमा किया गया है ओर यदि सोयाबीन की सात वर्ष की औसत उपज 15 क्विंटल है, फसल कटाई प्रयोगो में औसत उपज 14 क्विंटल ही प्राप्त होती है, अर्थात औसत उपज से एक क्विंटल कम प्राप्त होने पर भी किसान को बीमा की दावा राशि 2133/- प्राप्त होगी ही। इसी प्रकार अन्य फसलों में भी प्रावधान किया गया है। उन्होनें बताया कि उक्त योजनान्तर्गत कृषकों के लिये फसल बीमा कराने के उद्देश्य से विकासखण्डों के ग्रामों में शिविरों का आयोजन किया जा रहा है। इस श्रृंखला में 8 अगस्त को बुरहानपुर विकासखण्ड के ग्राम उताम्बी, खातला, बसाड, तारापाटी, खडकोद, बडसिंगी, चापोरा में शिविर लगाये जायेगें। वहीं विकासखण्ड खकनार के तहत ग्राम टेंभी, सीतापुर, रतागढ, रायतलाई, नावथा, साजनी रै, नायर, निमंदड, नावरा, केरपानी में शिविर का आयोजन किया जायेगा। श्री देवके ने किसान भाईयों से अनुरोध है, कि शिविर में अपनी फसलों का बीमा कराने के लिये प्रीमियम राशि नगद या चेक के माध्यम से जमा कराये।

जिले में जारी मौसम में 502.5 मि.मी. औसत वर्षा दर्ज 
बुरहानपुर | 06-अगस्त-2016
जिले में जारी मौसम में अभी तक 502.5 मिली मीटर औसत वर्षा हुई है। पिछले 24 घंटो के दौरान बुरहानपुर तहसील में 6 मि.मी.वर्षा और नेपानगर में 5 मि.मी. वर्षा मापी गई है। प्रभारी अधीक्षक भू-अभिलेख श्री खुमानसिंह चैहान ने बताया कि जारी मौसम में अभी तक बुरहानपुर तहसील में 465.5 मि.मी, नेपानगर 590 मि.मी. और खकनार तहसील में 452 मि.मी. वर्षा ऑकी गई है। जबकि गत वर्ष इसकी तुलना में बुरहानपुर में 450.6 मि.मी., नेपानगर में 641 मि.मी. और खकनार में 396.3 मि.मी. वर्षा दर्ज की गई थी।

No comments:

Post a Comment