Saturday, 6 February 2016

JANSAMPARK NEWS 4-2-15

जिला जनसंपर्क कार्यालय, बुरहानपुर (म.प्र.)

समाचार 

मध्यान्ह भोजन पकाने की लागत राशि खातों में जमा

बुरहानपुर - ( 4 फरवरी 2016 ) - जिले की लक्षित प्राथमिक/माध्यमिक शालाओं में मध्यान्ह भोजन कार्यक्रम माह जनवरी/फरवरी/मार्च 2016 के कुल 74 शैक्षणिक दिवसों की भोजन पकाने की राशि शाला स्वयं सहायता समूह शाला प्रबंधन समिति के खातों में आर.टी.जी.एस.के माध्यम से जमा कर दी गई है। जिला पंचायत सीईओ श्री बसंत कुर्रे ने उक्त जानकारी दी। उन्होनें बताया कि जनशिक्षकों के माध्यम से प्राथमिक/माध्यमिक शालाओं की शाला प्रबंधन समिति एवं मध्यान्ह भोजन कार्यक्रम में संलग्न स्वयं सहायता समूह को खातों में जमा राशि से अवगत कराया जाना सुनिश्चित करें। 
समाचार

कलेक्टर ने दिये डिस्ट्रीक्ट स्टडी सेंटर स्थापित करने के निर्देश 

प्रतियोगियों परिक्षाओं से सम्बधित पाठ्य सामग्री रहेंगी उपलब्ध 

बुरहानपुर - ( 4 फरवरी 2016 ) - जिले से बड़ी संख्या में प्रतिभागी रोजगार अर्जन हेतु विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं में शामिल होते है। परन्तु अध्ययन सामग्री के अभाव में परीक्षा की तैयारी पूर्ण रूप से नही हो पाने के कारण चयन से वंचित रह जाते है। 
कलेक्टर श्रीमती जे.पी.आईरीन सिंथिया के निर्देशानुसार जिला रोजगार कार्यालय द्वारा स्थानीय सुभाष हा.से.स्कूल कक्ष क्रमांक-14 में ऐसे प्रतिभागियों के लिये जिला अध्ययन केन्द्र (डिस्ट्रीक्ट स्टडी सेंटर) प्रारंभ किया जा रहा है। इस सेंटर में शासकीय अवकाशों को छोड़कर अन्य कार्यदिवसों में ईच्छुक युवक/युवतियां सांय 07 बजे से 09 बजे तक निःशुल्क अध्ययन कर सकती है। इच्छुक प्रतिभागी 10 फरवरी 2016 तक मीरा हॉस्टल स्थित जिला रोजगार कार्यालय में अपना पंजीयन करा सकते है। स्टडी सेंटर में विभिन्न प्रतियोगी परिक्षाओं के पाठ्यक्रम से सम्बधित पाठ्य सामग्री व पुस्तिकाऐं उपलब्ध रहेंगी। विस्तृत जानकारी के लिये जिला रोजगार अधिकारी श्री मनोजसिंह रावत के मो.नं.98277-46441 एवं 99778-68349 पर संपर्क किया जा सकता है। 
समाचार 
जिले में जैविक प्रमाणीकरण पर संगोष्ठी संपन्न 
जैविक खेती अपनाकर कम लागत में अधिक उत्पादन ले किसान भाई -श्री चर्मकार
बुरहानपुर - ( 4 फरवरी 2016 ) - जनपद पंचायत बुरहानपुर के सभागृह कक्ष में आज जैविक प्रमाणीकरण प्रक्रिया हेतु किसानों को जागरूक करने के उद््देश्य से संगोष्ठी संपन्न हुई। इस दौरान मध्य प्रदेश राज्य जैविक प्रमाणीकरण संस्था के प्रबंध संचालक श्री आर.एस.चर्मकार ने विस्तृत रूप से जैविक प्रमाणीकरण की प्रक्रिया की जानकारी दी। उन्होनें बताया कि प्रमाणीकरण कराने के पश्चात जैविक प्रमाणीकरण बोर्ड के अधिकारी किसानों के खेत में जाकर निरीक्षण करते है। तीन वर्ष बाद किसान के खेत को पूर्ण रूप से जैविक प्रक्षेत्र घोषित किया जाता है। जैविक प्रमाणीकरण प्रमाण पत्र प्राप्त होने के बाद किसान दुनिया के किसी भी कोने में अपना जैविक फसल का उत्पादन बेचने के लिये स्वतंत्र होता है। उन्होनें कृषकों से कहा कि जैविक प्रमाणीकरण कराने के लिये 1500/-रूपये प्रति हैक्टेयर शुल्क लिया जाता है। जैविक प्रमाणीकरण के लिये किसान के पास पेनकार्ड अनिवार्य है। 
इस अवसर पर जनपद पंचायत अध्यक्ष श्री किशोर पाटील, श्री नामदेव पाटील उप संचालक कृषि श्री एम.एस.देवके, परियोजना संचालक आत्मा श्री राजेश चतुर्वेदी, उद्यान उपसंचालक कु. शानु मेश्राम, श्री आर.एस. तोमर, कृषि विज्ञान केन्द्र डॉ अजितसिंह सहित बुरहानपुर विकासखण्ड के 100 से अधिक उन्नतशील कृषक उपस्थित रहे। संगोष्ठी में कृषि समिति अध्यक्ष श्री गुलचंदसिंह बर्ने ने किसानों से आव्हान किया कि बडे़ कृषक भाई अपने खेतो में कम से कम 2 से 3 एकड़ भूमि में जैविक अवश्य करें। जिससें किसानों को स्वयं के उपयोग के लिये अनाज, फल, सब्जी, दाल और अन्य उत्पाद प्राप्त होगें। जो कि किसानों को स्वस्थ्य रखेंगे। जिला पंचायत सदस्य श्री कैलाश यावतकर ने किसानों से अनुरोध किया कि खेतों में विभिन्न जैविक खाद एवं जैविक कीटनाषकों का उपयोग कर कम लागत में अधिक मुनाफा कमा सकते है। जिससे उनकी आर्थिक स्थिति ओर भी बेहतर होगी। 
नोट:- फोटोग्राफ संलग्न

No comments:

Post a Comment