Thursday, 31 December 2015

JANSAMPARK NEWS 20-12-15

जिला जनसम्पर्क कार्यालय, बुरहानपुर (म.प्र.)
समाचार
बुरहानपुर की कला एवं संस्कृति के संरक्षण के लिए हर संभव प्रयास किए जायेंगे
- प्रभारी मंत्री श्री विजय शाह
बुरहानपुर की ऐतिहासिक विरासत के प्रदर्षन का बेहतर माध्यम है 3 दिवसीय उत्सव
- सासंद श्री चौहान
तीन दिवसीय बुरहानपुर उत्सव का हुआ रंगारंग शुभारंभ
बुरहानपुर 20 दिसम्बर ,2015 -  बुरहानपुर के शाही महल में शनिवार शाम को तीन दिवसीय बुरहानपुर उत्सव का रंगारंग शुभारंभ कार्यक्रम आयोजित हुआ। इस कार्यक्रम में बुरहानपुर जिले की ऐतिहासिक धरोहरो व यहां की कला एवं संस्कृति को दर्शाने वाली प्रदर्शनी आयोजित की गई। साथ ही स्थानीय कलाकारों एवं स्कूली विद्यार्थियों इस अवसर पर आकर्षक नृत्य कार्यक्रम प्रस्तुत किये। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि प्रदेश के खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री कुंवर श्री विजय शाह ने तीन दिवसीय उत्सव का विधिवत फीता काटकर एवं मॉं सरस्वती के चित्र पर माल्यार्पण कर शुभारंभ किया। कार्यक्रम की अध्यक्षता क्षेत्रीय सासंद श्री नंदकुमार सिंह चौहान ने की। इस अवसर पर विधायक नेपानगर श्री राजेन्द्र दादू, विधायक श्रीमती अर्चना चिटनीस, महापौर श्री अनिल भोसले एवं कलेक्टर श्रीमती जे.पी.आईरिन सिंथिया एवं पुलिस अधीक्षक श्री अनिल सिंह कुशवाह, श्री राजाराम पाटीदार सहित विभिन्न अधिकारी व जनप्रतिनिधि उपस्थित थे।
जिला पुरातत्व समिति के कलेण्डर व ऐतिहासिक धरोहरों के फोटो का हुआ विमोचन
बुरहानपुर उत्सव में जिला पुरातत्व समिति बुरहानपुर द्वारा प्रकाशित कलेण्डर एवं जिले के 9 ऐतिहासिक स्थलों के रंगीन फोटो का विमोचन मुख्य अतिथि एवं प्रभारी मंत्री श्री शाह एवं सासंद श्री चौहान ने किया। कलेण्डर में बुरहानपुर की संस्कृति व सभ्यता को रंगीन चित्रों के माध्यम से प्रदर्शित किया गया है। 
गणगौर नृत्य, कोरकू नृत्य भगोरिया नृत्य, प्रस्तुत किए गये
बुरहानपुर उत्सव में स्थानीय कलाकारांे ने राजस्थानी गणगौर नृत्य, आदिवासी कोरकू एवं भगोरिया नृत्य, का आकर्षक प्रदर्शन किया। इस दौरान स्कूली छात्र छात्राओं ने ताप्ती नृत्य, गणेश नृत्य एवं स्वागत नृत्य भी प्रस्तुत किए। कोरकू नृत्य हरदा के मंशाराम एवं उनके दल ने प्रस्तुत किया। भगोरिया नृत्य नेपानगर जागृति कला केन्द्र के कलाकारों ने तथा गणगौर एवं मयूर नृत्य अखण्ड सुदर्पण जन कल्याण समिति खण्डवा के कलाकारों द्वारा प्रस्तुत किया गया। सरस्वती वंदना श्री प्रभुदत्त मिश्रा, रावेर एवं उनके दल ने प्रस्तुत की। कार्यक्रम का संचालन श्रीमती उषा अग्रवाल एवं संजय गुप्ता ने किया।
कार्यक्रम मंे संबोधित करते हुए मुख्य अतिथि एवं प्रभारी मंत्री श्री विजय शाह ने कहा कि बुरहानपुर क्षेत्र की कला एवं संस्कृति को प्रोत्साहन एवं संरक्षण देने के लिए प्रदेश सरकार हर संभव मदद देगी, प्रयास किया जायेगा कि आगामी वर्षो में भी बुरहानपुर उत्सव का आयोजन और अधिक बेहतर तरीके से नियमित रूप से किया जायेगा। उन्होंने कहा कि बुरहानपुर का खूनी भण्डारा (कुण्डी भण्डारा) अपने आप में एक बेमिसाल जल वितरण व्यवस्था है, इस तरह की व्यवस्था देश में और कही नहीं देखी गई है। ऐसी व्यवस्था विश्व मंे केवल ईरान में बतायी जाती है। प्रभारी मंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी से अनुरोध कर ईरान के राष्ट्रपति को बुरहानपुर लाकर यह संरचना उन्हें दिखायी जायेगी। उन्होंने कहा कि बुरहानपुर जिले का अजेय असीरगढ़ किला इतिहास में काफी प्रसिद्ध है, इस किले के जिर्णोद्धार व सौंदर्यीकरण का कार्य कराया जायेगा। प्रभारी मंत्री श्री शाह ने कहा कि बुरहानपुर उत्सव पर्यटकों को आकर्षित करने एवं यहां की कला संस्कृति एवं ऐतिहासिक धरोहरो को प्रचारित करने का एक अच्छा माध्यम है। उन्होंने बुरहानपुर उत्सव में प्रदर्शित डॉ. मेजर गुप्ता द्वारा लगाई गई प्राचीन सिक्कों की प्रदर्शनी की सराहना की तथा कहा कि इस प्रदर्शनी में उन्हें अपने पूर्वजों की रियासत में प्रचलित सिक्के देखने को मिले जिसकी वर्षो से उन्हें तलाश थी। डॉ. मेजर गुप्ता द्वारा प्रभारी मंत्री श्री शाह को मकराई स्टेट में प्रचलित एक सिक्का भेंट किया गया। 
क्षेत्रीय सासंद श्री चौहान ने बुरहानपुर उत्सव आयोजन के लिए जिला प्रशासन एवं जिला पुरातत्व समिति की सराहना की। उन्हांेने कहा कि लगभग 10 वर्ष पूर्व बुरहानपुर में तीन दिवसीय उत्सव आयोजित किया गया था, तब से आज तक यह उत्सव आयोजित नहीं किया गया, अब प्रयास किया जायेगा की अगले वर्षो में बुरहानपुर उत्सव का नियमित रूप से आयोजन हो। उन्होंने कहा कि यह 3 दिवसीय उत्सव बुरहानपुर की ऐतिहासिक विरासत के प्रदर्शन का बेहतर माध्यम है। 
कलेक्टर श्रीमती सिंथिया ने अपने स्वागत उद्बोधन मंे तीन दिवसीय बुरहानपुर उत्सव आयोजित होने वाले कार्यक्रमों की विस्तार से जानकारी दी। उन्होंने बताया कि इस वर्ष कुण्डी भण्डारा के निर्माण को 400 वर्ष पूर्ण होने जा रहे है। इसलिए कुण्डी भण्डारा का मॉडल तैयार कर बुरहानपुर उत्सव में प्रदर्शित किया गया हैं ताकि लोग इसे जाने और इसका महत्व समझे। उन्होंने कहा कि तीन दिवसीय उत्सव में लोक नृत्य, लोक कला, रंगोली व पेंटिग संबंधी अनेकों कार्यक्रम आयोजित होंगे। कार्यक्रम में आयोजित प्रदर्शनी से स्थानीय नागरिकों एवं पर्यटकों को बुरहानपुर की संस्कृति व ऐतिहासिक धरोहरों की जानकारी मिलेगी।
महापौर श्री अनिल भोसले ने अपने संबोधन में कहा कि कुण्डी भण्डारा के सौंदर्यीकरण के लिए प्रयास किए जा रहे है। लगभग 15 लाख रूपये लागत से कुण्डी भण्डारा में नीचे तक जाने एवं वापस आने के लिए 2 लिफ्ट लगाई जा रही है तथा वहां 24 घंटे विद्युत उपलब्धता सुनिश्चित की गई है। उन्होंने कहा कि बुरहानपुर का महत्व इसलिए भी है कि यहां सिक्खों के पहले गुरू एवं 10 वें गुरू दोनों ही आ चुके है। 
विधायक श्रीमती चिटनीस ने इस अवसर पर कहा कि बुरहानपुर में सभी धर्मो के प्राचीन धार्मिक स्थल मौजूद है। यहां का असीरगढ़ किला, कुण्डी भण्डारा, आहूखाना, दरगाह ए हकीमी दुनिया में जानी जाती है। पर्यटकों को आकर्शित करने के लिए बुरहानपुर उत्सव का आयोजन एक सराहनीय प्रयास है। उन्होंने अगले वर्षो मंे बुरहानपुर उत्सव को और अधिक बेहतर बनाने के लिए कहा। नेपानगर विधायक श्री राजेन्द्र दादू ने भी इस अवसर पर संबोधित किया।
टीप - फोटोग्राफ संलग्न है।
क्रमांक-65/1072/2015        









                      
बुरहानपुर उत्सव में विकास प्रदर्षनी आयोजित
बुरहानपुर 20 दिसम्बर ,2015 -  बुरहानपुर के शाही महल में शनिवार शाम को आयोजित तीन दिवसीय बुरहानपुर उत्सव में जिला जनसम्पर्क कार्यालय बुरहानपुर द्वारा गत 10 वर्षो के विकास कार्यो पर केन्द्रित विकास प्रदर्शनी आयोजित की गई। प्रदर्शनी का अवलोकन प्रदेश के खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री कुंवर श्री विजय शाह, क्षेत्रीय सासंद श्री नंदकुमार सिंह चौहान ने किया। इस अवसर पर विधायक नेपानगर श्री राजेन्द्र दादू, विधायक श्रीमती अर्चना चिटनीस, महापौर श्री अनिल भोसले एवं कलेक्टर श्रीमती जे.पी.आईरिन सिंथिया एवं, पुलिस अधीक्षक श्री अनिल सिंह कुशवाह, ने भी प्रदर्शनी देखी। विकास प्रदर्शनी में मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान के 10 वर्षीय कार्यकाल के दौरान प्रदेश के साथ साथ बुरहानपुर जिले में हुए विकास कार्यो को रंगीन छायाचित्रों के माध्यम से प्रदर्शित किया गया। प्रदर्शनी का अवलोकन बुरहानपुर उत्सव मंे आये सैकड़ों दर्शकों ने भी किया। इस दौरान प्रदर्शनी के दर्शकों को जनसम्पर्क विभाग द्वारा 10 वर्ष की उपब्धियों पर केन्द्रित प्रचार सामग्री भी वितरित की गई। 
टीप - फोटोग्राफ संलग्न है।
क्रमांक-66/1073/2015    


तीन दिवसीय ‘‘बुरहानपुर उत्सव‘‘ का आज होगा समापन
बुरहानपुर 20 दिसम्बर ,2015 -‘‘बुरहानपुर उत्सव‘‘ के तीसरे एवं अंतिम दिन 21 दिसम्बर को विवेक लोककला दर्पण रायपुर छत्तीसगढ़ राज्य के कलाकार कर्मा, ददरिया, राउत नाचा नृत्य की प्रस्तुती देगें। बुंदेली लोक नृत्य नाट्य कला परिसर कनेरा देव सागर के कलाकारों द्वारा राई, बधाई देवी नृत्य की प्रस्तुती दी जायेगी। अखण्ड सुदर्पण जनकल्याण समिति खण्डवा के कलाकार द्वारा गम्मत और हरदा व होशंगाबाद के लोक नृत्य होेगें। साथ ही विभिन्न शालाओं एवं महाविद्यालयों के विद्यार्थियों द्वारा कथक, भरत नाट्यम, आदिवासी नृत्य व लोकगीत सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किये जायेंगे। कलेक्टर श्रीमती आईरिन सिंथिया ने नागरिकों से अपील की है कि वे अपने परिवार सहित बुरहानपुर उत्सव कार्यक्रम में आकर आनंद ले।
क्रमांक-67/1074/2015  

No comments:

Post a Comment