Wednesday, 9 December 2015

JANSAMPARK NEWS 5-12-15

जिला जनसंपर्क कार्यालय, बुरहानपुर म.प्र.

समाचार

शौचालय निर्माण कार्य में ढिलाई बर्दाश्त नही-श्रीमती सिंथिया 

कलेक्टर ने ग्राम बोरसल एवं सांईखेड़ाखुर्द में चौपाल लगाई

साथ ही गामीणों को स्वच्छता की दी सीख

सचिव एवं प्रधानपाठक का वेतन काटने के दिये निर्देश 

बुरहानपुर (5 दिसम्बर) - कलेक्टर श्रीमती जे.पी.आईरीन सिंथिया ने शुक्रवार को मैदानी हकीकत जानने दोपहर ग्राम बोरसल एवं सांईखेड़ाखुर्द का भ्रमण किया। यहां उन्होनें चौपाल लगाकर ग्रामीणों से रूबरू होकर समस्या एवं शिकायत सुनी। ग्रामीणों ने पेंशन, बीपीएल कार्ड संबंधी समस्या बताई जिसे कलेक्टर ने संबंधित अधिकारियों को शीघ्रता से पात्रतानुसार निराकरण करने के निर्देश दिये। बोरसल में कलेक्टर को महिला ने अपने पुत्र के हृदय संबंधी बीमारी के उपचार हेतु मदद की गुहार लगाई। उन्होनें सीएमएचओ को प्रकरण बनाकर उपचार की उचित व्यवस्था करने निर्देशित किया। 
कलेक्टर ने ग्राम बोरसल में शौचालय निर्माण कार्यो की गहन समीक्षा की। साथ ही पूर्ण हुए शौचालय का अवलोकन भी किया। सचिव सुनील पाटील के अनुपस्थित रहने पर खकनार सीईओ जनपद को सचिव का 4 दिवस का वेतन काटने के निर्देश दिये। उन्होनें वहां उपस्थित सब इंजिनियर व रोजगार सहायक से शौचालय निर्माण कार्यो की प्रगति के बारे में गहनता से पूछताछ की। कलेक्टर ने कहा कि शौचालय निर्माण में ढिलाई बर्दाश्त नही की जायेगी। उन्होनें धीमी गति से निर्माण कार्य के प्रति नाराजगी जाहिर करते हुए कहा कि एक माह में कार्य गुणवत्ता के साथ पूर्ण करें। उन्होनें प्राथमिक/माध्यमिक स्कूलों के शिक्षक एवं विद्यार्थियों के उपस्थिति रजिस्टरों का अवलोकन भी किया। प्रधान पाठक सुभाषसिंह बैस का ढाई दिवस का वेतन काटने के संबंधित अधिकारी को निर्देश दिये। इस भम्रण दौरान सीईओ जिला पंचायत श्री बसंत कुर्रे, एसडीएम नेपानगर श्री शंकरलाल सिंगाडे, जनपद पंचायत खकनार सीईओ श्री आर.बी.एस.दण्डोतिया, जिला समन्वयक श्री प्रवीण गुप्ता सहित अन्य अधिकारी/कर्मचारी मौजूद रहे। 
बोरसल में माध्यमिक शाला का किया निरीक्षण

कलेक्टर श्रीमती सिंथिया ने माध्यमिक शालाओं के विद्यार्थियों से शिक्षा संबंधी पूछताछ की। उन्होनें उपस्थित शिक्षकों को सप्ताह में एक दिवस कमजोर बच्चें को खडे़ कर हर विषय में पढ़वाने के निर्देश दिये। ताकि विद्यार्थियो को आगे अग्रंेजी और हिन्दी अच्छे तरीके से पढ़ते आ सकेे। वहीं सीईओ जिला पंचायत श्री कुर्रे ने भी बच्चों से मध्यान्ह भोजन संबंधी जानकारी प्राप्त की। छात्र/छात्राओं ने बताया कि हमें मेन्यू अनुसार समय पर भोजन मिलता है। 

कलेक्टर ने ग्रामीणों को स्वच्छता की दी सीख

कलेक्टर ने ग्राम बोरसल एवं सांईखेड़ाखुर्द में ग्रामीणों की चौपाल लगाकर ग्रामीणों को स्वच्छता के लिये जागरूक किया। उन्होनें ग्रामीण महिलाओं से खुले में शौच नहीं करने का आग्रह किया। उन्होनें कहा कि अपने-अपने घरों में शौचालय बनाकर उसका उपयोग करें। स्वच्छता पर प्रकाश डालते हुए कहा कि खुले में शौच करने से कितना शर्मिन्दा होना पड़ता है। साथ ही गंदगी से कितनी गंभीर बीमारी फैलती है। उन्होनें घर-घर जाकर कचरा एकत्र करने के लिये सफाई कर्मचारी की नियुक्त करने के निर्देश सीईओ जनपद खकनार को दिये। उन्होनें ग्रामीणों से कहा कि अपने-अपने घरों से जो निकलता है उसमें से निकलने वाले प्लास्टिक को एकत्र कर उसे जमा कर विक्रय करें। ना कि उस प्लॉस्टिक को जलाये। क्योंकि प्लॉस्टिक को जलाने से प्रदूषण होता है। साथ में कैंसर जैसी घातक बीमारी भी होती है। आंगनवाड़ी कार्यकर्ता/सहायिका ग्राम में प्रत्येक सप्ताह में स्वच्छता के प्रति जागरूकता हेतु कार्यक्रम व रैली आयोजित करें। 

12 दिसम्बर को ग्राम में शिविर के माध्यम से आधार पंजीयन अवश्य 

           कलेक्टर ने ग्राम सांईखेड़ा खुर्द में ग्रामीणों से कहा कि 12 दिसम्बर को आधार पंजीयन हेतु शिविर लगाया जायेगा। जिसमें छोटे बच्चों से लेकर बडे़ व्यक्तियों के आधार पंजीयन किये जायेगे। इसके प्रचार-प्रसार के लिये कोटवार के माध्यम से डोंडी पिटवाये। ताकि अधिक से अधिक लोगों का आधार पंजीयन हो सके। साथ ही उन्होनें ग्रामीणों से बकाया कर की राशि जमा करने की बात कही। कलेक्टर को पंचों ने जंगली सूकरो द्वारा फसलों को नुकसान पहुंचाने की समस्यां बतलाई। कलेक्टर ने कहा कि खेत की मपती कर तार फैसिंग के लिये पंचायत द्वारा प्रस्ताव पास कर वन विभाग को भिजवाये।
नोटः-फोटोग्राफ संलग्न क्रमांक-1 से 6 तक 







------
क्रमांक-15/1022/2015                          सचिन/प्रशासन/फोटो 

समाचार

के.वी.के एवं कृषि विभाग के तत्वावधान में मृदा स्वास्थ्य दिवस 

कार्यक्रम संपन्न 

मिट्टी की सेहत जानने के लिये मृदा परीक्षण अवश्य करायें-श्रीमती 

सिंथिया 

कलेक्टर ने मृदा स्वास्थ्य कार्ड कृषकों को किये वितरित 

बुरहानपुर (5 दिसम्बर) - राज्य शासन निर्देशानुसार 5 दिसम्बर 2015 को ग्राम धूलकोट में मृदा स्वास्थ्य कार्यक्रम का शुभारंभ सर्वप्रथम मॉ सरस्वती के छायाचित्र पर माल्यार्पण व द्वीप प्रज्जवलन कर किया गया। उक्त कार्यक्रम कृषि विज्ञान केन्द्र और आत्मा व किसान कल्याण तथा कृषि विकास विभाग के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित हुआ। 
नेपानगर विधायक श्री राजेन्द्र दादू ने कृषि विज्ञान केन्द्र और कृषि विभाग से कहा कि कृषकों को खेती की नवीन तकनीकि बतायें। जिससें किसान भाई खेती से अधिक से अधिक उपज प्राप्त कर सकें। उन्होनें किसानों से मिट्टी परीक्षण कराने की बात कही। साथ ही किसान भाई अपने खेतो में जैविक खाद का उपयोग करें। किसानों में मृदा परीक्षण हेतु जागरूकता लाने के उद््देश्य से स्कूली एवं कृषि विभाग के अधिकारियों द्वारा रैली भी निकाली गई। 
कार्यक्रम में कलेक्टर श्रीमती जे.पी.आईरीन सिंथिया ने किसानों को संबोधित करते हुए कहा कि मिट्टी का परीक्षण इसलिये आवश्यक है क्योंकि मिट््टी की सेहत का पता लगाया जा सके। हमें यह जानकारी मिले कि खेती की मिट्टी में कौनसे पौषक तत्वों की कमी है। प्रयोगशाला में मिट्टी परीक्षण कराने से 12 प्रकार की जांच होती है। उन्होनें सभी किसानों भाईयों से मिट्टी परीक्षण अनिवार्य रूप से करने का अनुरोध भी किया। ताकि कम लागत में खेती से अधिक उत्पादन प्राप्त हो सके। साथ ही उन्होनें किसानों से वर्षा के पानी को सहजने की बात भी कही। उन्होनें कहा इस वर्ष बारिश कम मात्रा में हुई है। बरसात के दिनों में पानी संरक्षण के लिये किसान अपने-अपने खेत में ढलान वाले हिस्से में बड़ा गढढा बनाकर पानी का संग्रहण अवश्य करें। ताकि उससे खेत की मिटट्ी को बचाया जा सके। साथ ही वर्षा का पानी संग्रह होगा। कार्यक्रम में कलेक्टर द्वारा कृषकों को मृदा स्वास्थ्य कार्ड वितरित किये गये। 
कार्यक्रम में सीईओ जिला पंचायत श्री बसंत कुर्रे, जिला पंचायत सदस्य एवं कृषि स्थाई समिति के अध्यक्ष श्री गुलचंदसिंह बर्ने, जिला पंचायत सदस्य श्री योगेश यावतकर, नवलंिसंह शक्कर कारखाना के संचालक श्री ठा.विरेन्द्रसिंह, उपसंचालक कृषि श्री एम.एस.देवके, आत्मा परियोजना संचालक श्री राजेश चतुर्वेदी, सीईओ जनपद पंचायत बुरहानपुर श्री राकेश शर्मा, उद्यानिकी श्री आर.एन.तोमर, डॉ.भूपेन्द्रसिंह सहित अन्य अधिकारी/कर्मचारीगण उपस्थित रहे। 
कृषि विज्ञान केन्द्र डॉ.अजीतसिंह द्वारा कार्यक्रम की रूपरेखा अवगत कराई। उन्होनें बताया कि किसान भाई को मिट्टी स्वास्थ्य के बारे में जानकारी होना आवश्यक है। इससे पता चलता है कि मिट्टी में कौन-कौन से पोषक तत्वों की कमी या अधिकता है। हमारी टीम के सहयोग से मिट्टी के नमूने लिये गये है। यहां की मिट्टी हल्की है। साथ ही टीम द्वारा कृषकों को मिट्टी के नमूने लेने की तकनीक से भी अवगत कराया गया। श्री देवके ने कहा कि मिट्टी परीक्षण का कार्य शत प्रतिशत करना है। हर खेत के कृषकों को स्वास्थ्य कार्ड उपलब्ध कराना हमारी प्राथमिकता है। जिससे किसानों को खेत मिट्टी की जानकारी मिल सके। उन्होनें किसानों से अपने खेत की उत्पादकता बढ़ाने के लिये मृदा परीक्षण अवश्य कराने का आग्रह किया। डॉ.भूपेन्दसिंह ने किसानों को मिट्टी परीक्षण की विधी बताई। उन्होनें कहा कि खेत को समान गुणों वाले भागों में बांटकर अलग-अलग नमूने लिये जाये। मिट्टी की उपरी सतह से घांस आदि हटा दी जाये। प्रत्येक नमूना ईकाई 10 से 15 जगह में चयन करें। मिट्टी की पतली परत लेकर एक मिलाजूला नमूना बनाये। जिसमें से केवल 250 ग्राम मिट्टी बच जाये। इसे परीक्षण हेतु थैली में भरकर प्रयोगशाला में भिजवायें। 







------
क्रमांक-17/1024/2015                              सचिन/कृषि/फोटो 
समाचार 

जिला विधिक सेवा प्राधिकरण एवं जिला न्यायालय द्वारा 

किशोर न्याय बोर्ड लघु विधिक साक्षरता शिविर का आयोजन 

बुरहानपुर (5 दिसम्बर) - जिला न्यायाधीश श्री मोहम्मद युसुफ मन्सूरी के निर्देशानुसार लघु विधिक साक्षरता शिविर का आयोजन किया गया। शिविर में जिला विधिक सहायता अधिकारी श्री रॉबिन दयाल द्वारा बाल संरक्षण अधिनियम अधिनियम के प्रावधानों के बारे में जानकारी दी गई। बाल संरक्षण अधिनियम सुधार हेतु बाल अपराधियों को बाल संरक्षण अधिनियम की जानकारी से अवगत कराया गया। जिला विधिक सेवा प्राधिकरण श्री संजय कुमार उइके ने बताया कि बालकों को बाल अपराध से बचना चाहिए। कार्यशाला में राजेश पिता सिरदार, दीपक, छोटाराम, दिपेश राजेन्द्र सकवाल, अधिवक्ता अजय महाजन आदि उपस्थित रहे। 
टीपः- फोटोग्राफ सलंग्न क्रमांक- 7

------
क्रमांक-18/1025/2015                           सचिन/न्याय/फोटो  

No comments:

Post a Comment