Friday, 22 January 2016

JANSAMPARK NEWS 19-1-16

जिला जनसंपर्क कार्यालय, बुरहानपुर (म.प्र.)
समाचार 
जलवायु परिवर्तन जागरूकता संबंधी जिला स्तरीय सम्मेलन आयोजित
प्रकृति और मानव जीवन का गहरा संबंध -श्री रेवाल 
बुरहानपुर - ( 19 जनवरी 2016 ) - जिले में मध्य प्रदेश जन अभियान परिषद बुरहानपुर द्वारा एक दिवसीय जिला स्तरीय जलवायु परिवर्तन जागरूकता सम्मेलन का आयोजन शासकीय सुभाष उ.मा.विद्यालय में किया गया। यह सम्मेलन कलेक्टर श्रीमती जे.पी.आईरीन सिंथिया के निर्देशन में आयोजित हुआ। 
    कार्यक्रम का शुभारंभ अपर कलेक्टर श्री प्रकाश रेवाल ने मॉ सरस्वती के छायाचित्र पर माल्यार्पण कर किया। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए श्री रेवाल ने कहा कि सूर्य उर्जा का स्त्रोत है। जिससे हमें उर्जा और शक्ति मिलती है। उन्होनें बताया कि प्रकृति और मानव जीवन का गहरा संबंध है। श्री रेवाल ने कहा कि म.प्र.जन अभियान परिषद द्वारा सात दिवस तक पंच महाभुत साक्षरता यात्रा निकाली गई। जिसमें पंच महाभुत जैसे आकाष, पृथ्वी, जल, वायु, अग्नि इन तत्वो के बारे में लोगो में जागरूकता लाने के उद्देश्य से ग्राम चौपाल व रैली आयोजित की गई। इसके लिये उन्होनें जन अभियान परिषद सराहना भी की। प्रकृति का संतुलन बनाये रखने के लिये समाज को आगे आकर सहभागिता निभानी होगी। उन्होनें कहा कि पुराने समय में मिट्टी की प्रतिमाऐं बनायी जाती थी। लेकिन आज हम अपनी परम्परा को छोड़कर पीओपी की मूर्तियां अपनाने लगे है। जिससें जल प्रदूषण तो होता है उसी पानी के उपयोग से हमारे शरीर में विपरित प्रभाव पड़ता है। हमें मिट््टी की मूर्तियां निर्मित करके पर्यावरण की दिशा में एक सकारात्मक पहल करनी चाहिए। 
   सम्मेलन में संभाग समन्वयक श्री अमीत शाह ने कहा कि मानव शरीर पांच तत्वों से मिलकर बना है। इनमें से एक भी नहीं रहेगा तो शरीर का संतुलन बिगड़ जायेगा। सभी तत्व मानव जीवन में आध्यात्मिक और दिनचर्या से जुडे़ हुए है। उन्होनें तुलसी का महत्व बतातें हुए कहा कि तुलसी का पौधा हमारे आंगन होना चाहिए। तुलसी एक औषधी का कार्य करती है। जिला समन्वयक डॉ.सुप्रीति यादव ने जिले में पंच महाभूत यात्रा के दौरान जिले भर की गतिविधियां जैसे रैली, ग्राम चौपाल, बैठकों के आयोजन में प्रस्फुटन एवं नवांकुर समितियों के द्वारा किये गये कार्यो ब्यौरा प्रस्तुत किया। साथ ही समस्त ग्रामीणों को संकल्प कराया कि पर्यावरण के संरक्षण में वह अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाने का आव्हान किया। ग्रामीणों द्वारा हाथ आगे कर संकल्प को दोहराया गया। सम्मेलन में प्रजेन्टेशन के माध्यम से जिले भर में किये गये उल्लेखनीय कार्यो का प्रदर्शन किया गया। शासकीय विभागों में संचालित हितग्राही मूलक योजनाओं की प्रदर्शनी भी लगाई गई। 

नुक्कड़ नाटक के माध्यम से पर्यावरण की दी सीख

    नेपानगर जागृति कला केन्द्र के कलाकारों द्वारा नुक्कड़ नाटक के माध्यम से पर्यावरण संरक्षण के बारे में नाटक मंचन प्रस्तुत किया गया। जिसकी दर्शकों ने प्रशंसा की। होमागार्ड डिस्टिक्ट कमान्डेट श्री गुलाबसिंह राजपुत ने आपदा प्रबंधन के बारे में ग्रामीणों को अवगत कराया। उन्होनें बताया कि विविध प्रकार की आपदाओं से हम अपनी सुरक्षा कैसें करें। इस संबंध में टीम द्वारा प्रत्यक्ष रूप से प्रदर्शन कर लोगों को जागरूक किया । इस अवसर पर प्रोफेसर इस्माईल के द्वारा एनजीओ गठन एवं प्रबंधन की बारिकीयां बताई गई। कार्यक्रम का संचालन श्री मोहन जोशी एवं आभार प्रदर्शन खकनार विकासखण्ड समन्वयक श्री अमजत खान के द्वारा किया गया। 





क्रमांकः 56/56/सचिन/ज.अ.प./फोटो

No comments:

Post a Comment