Saturday, 30 April 2016

JANSAMPARK NEWS 12-4-16

पानी को बनाया नहीं जा सकता, लेकिन इसे बचाया तो जा सकता है-श्रीमती सिंथिया 
ग्रामोदय से भारत उदय‘ अभियान के लिए सभी आवश्यक तैयारियां करें, दोनों विकासखण्डों का अभियान संबंधी प्रशिक्षण कार्यक्रम संपन्न 
बुरहानपुर | 12-अप्रैल-2016

   पानी को बनाया नहीं जा सकता, लेकिन इसे बचाने का कार्य करना जरूरी है। इसलिये हमें वर्षा के जल संग्रहण करना आवश्यक है। यह बात कलेक्टर श्रीमती जे.पी.आईरीन सिंथिया ने ‘‘ग्राम उदय से भारत उदय‘‘ अभियान के तहत जिला पंचायत सभागृह में आयोजित प्रशिक्षण में कही। उन्होंने कहा कि मानव जीवन में जल का अहम योगदान है। क्योकि पानी बिना मानव जीवन संभव नहीं है। इस मौके पर सीईओ जिला पंचायत श्री बसंत कुर्रे, जनपद पंचायत बुरहानपुर श्री राकेश शर्मा, पशु चिकित्सा सेवाऐं उपसंचालक श्री एम.के.शर्मा, कृषि उपसंचालक श्री एम.एस.देवके, ग्रामीण यांत्रिकी सेवा कार्यपालन यंत्री श्री संजय सोलंकी, उपसंचालक उद्यानिकी शानू मेश्राम, परियोजना अधिकारी श्री विजय पचौरी, श्री प्रवीण गुप्ता सहित ग्राम उदय से भारत उदय अभियान में संलग्न दोनो विकासखण्ड के नोडल अधिकारी, एडीओ, पीसीओ, पटवारी, सचिव मास्टर टेनर्स श्री अनिल शाह व श्री संजय गुप्ता सहित अन्य अधिकारी उपस्थित रहे।
    प्रशिक्षण में कलेक्टर ने बताया कि पेयजल समस्या के लिये अभी से हमें सचेत होने की जरूरत है। इसके लिये ग्राम सभाओं में कृषकों को चिन्हित कर उन्हें खेतों में खेत कूंड बनाने के लिये प्रेरित करें। उन्होनें कहा कि वर्षा के दौरान खेतों से अधिक मात्रा में पानी बहकर बाहर निकल जाता है। इसके लिये किसानों को अपने खेतों में खेत कूंड बनवाने के लिये प्रेरित करें। इसके लिये किसानों को खेत के ढलान वाले हिस्से में 4 फीट चौड़ा, 4 फीट लम्बाई वाला गढ्ढा खुदवाना होगा। ताकि वर्षा के जल को संग्रहण कर उसका उपयोग कृषि सिंचाई में किया जा सकें। इससे आसपास के कुऐ और ट्यूबवेल भी रिचार्ज होगें। इसके साथ ही कृषकों को अधिक से अधिक माईक्रो एरीगेशन के लिये भी जागरूक किया जाये। अभियान के दौरान किसानों को प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना, प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना हेतु किसानों को जागरूक करें। डॉ. भीमराव अम्बेडकर की 125 वीं जयंती के उपलक्ष्य में 14 अप्रैल से प्रदेश में ‘‘ग्रामोदय से भारत उदय‘‘‘अभियान प्रारंभ हो रहा है। इस अभियान के लिए सभी आवश्यक तैयारियां समय सीमा में पूर्ण करें। सामाजिक सौहार्द और समरसता बढ़ाने, पंचायत राज प्रणाली को मजबूत बनाने, ग्राम विकास और किसान-कल्याण तथा ग्राम पंचायत विकास योजनाओं में लोगों की सहभागिता बढ़ाने के उद्देश्य से संचालित किया जा रहा है। डॉ. अम्बेडकर की जयंती पर 14 अप्रैल से आरंभ हो रहे इस कार्यक्रम के समस्त घटक का ग्राम स्तर तक क्रियान्वयन सुनिश्चित करने के लिए सघन प्रशिक्षण तथा सतत मॉनीटरिंग की व्यवस्था की जा रही है। इस अवसर पर जिला तथा ग्राम स्तर पर भी स्मृति सभाएँ एवं संगोष्ठी सभाएँ की जायेगी।
    कलेक्टर श्रीमती सिंथिया ने बताया कि राज्य स्तर से जारी कार्यक्रम के अनुसार 15 अप्रैल से 21 मई के बीच तीन दिवसीय ग्राम संसदों का आयोजन हर पंचायत स्तर पर किया जायेगा। जिसमें पहले दिन ग्राम पंचायत की विकास योजना पर चर्चा की जायेगी, दूसरे दिन हितग्राही मूलक योजनाओं का समग्र डाटा बेस से मिलान कर आधार नम्बर की सिडिंग का कार्य किया जायेगा तथा छूटे हुए हितग्राहियो के नाम जोड़ने की कार्यवाही होगी एवं तीसरे दिन ग्राम कृषि सभा आयोजित होगी जिसमें कृषि उद्यानिकी, वानिकी पशुपालन एवं मत्स्य पालन विभाग की गतिविधियों के बारे में ग्रामीणों को बताया जायेगा।
    उन्होंने बताया कि अभियान के दौरान महिला स्वास्थ्य शिविरों तथा निःशक्तजनों के स्वास्थ्य परीक्षण एवं कृत्रिम अंग वितरण के लिए खण्ड एवं जिला स्तर पर शिविर आयोजित होंगे। वहीं उन्होनें कहा कि ग्रामोदय से भारत उदय अभियान के दौरान शासन की योजनाओं के प्रचार-प्रसार का कार्य भी किया जायेगा। इस दौरान गांव के विकास की वार्षिक एवं पंचवर्षीय योजना तैयार की जायेगी। अभियान के दौरान नरेगा योजना के तहत गरीबों के खेतों में खेत तालाब के निर्माण के प्रस्ताव तैयार किये जायेंगे। इस अभियान के दौरान ग्रामीण क्षेत्रों में शासकीय सम्पत्तियों का भौतिक सत्यापन भी किया जायेगा। राजस्व विभाग द्वारा पात्र हितग्राहियों को भूखण्ड धारक प्रमाण पत्र वितरित किये जायेंगे। नामांतरण बटवारे व सीमांतरण के लिए विशेष शिविर भी इस दौरान आयोजित किये जायेंगे। कलेक्टर ने अधिकारियों से इन सभी कार्यों को समय सीमा में पूर्ण करने तथा किये गए कार्य का डोक्यूमेंटेशन भी कराने के निर्देश दिए। उद्यानिकी फसलों हेतु ड्रिप संयत्रों पर अनुदान के लिये कृषकों के ऑनलाईन पंजीयन किये जायेंगे। उन्होनें ग्रामों में शासकीय स्कूलों और सार्वजनिक स्थलों पर वर्षा के दौरान वृक्षारोपण हेतु स्थल चिन्हित करने के निर्देश दिये। 
अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति वर्ग के कृषकों को उद्यानिकी फसलों में अनुदान की पात्रता 
बुरहानपुर | 12-अप्रैल-2016
 राज्य शासन उद्यानिकी विभाग द्वारा उद्यानिकी फसलों के लिये अनुदान उपलब्ध है। इस दौरान ग्राम उदय से भारत उदय अभियान के तहत जिले में उद्यानिकी विभाग के अधिकारियों को कार्यक्रम अनुसार ग्राम पंचायत में अजा/अजजा वर्ग के हितग्राहियों को चिन्हित करने के निर्देश दिये है। ताकि उक्त योजना से किसानों लाभान्वित किया जा सकें। ड्रिप संयंत्र प्रतिस्थापना हेतु अजा/अजजा वर्ग के लघु/सीमांत कृषकों 65 प्रतिशत तथा सामान्य अ.जा. एवं अजजा वर्ग के कृषकों को 55 प्रतिशत अनुदान की पात्रता है। 
    उक्त जानकारी उद्यानिकी उपसंचालक सुश्री शानू मेश्राम ने दी। उन्होनें बताया कि अभियान में उद्यानिकी फसलों के लिये ड्रिप संयंत्रों पर अनुदान हेतु किसानों का ऑनलाईन पंजीयन की सुविधा की गई है। जिन ग्राम पंचायतों में नेट कनेक्शन सुविधा उपलब्ध है। वहां पर किसानों का ऑनलाईन पंजीयन शीघ्रता से मौके पर ही किया जायेगा। वहीं जिन ग्राम पंचायतों में नेट सुविधा उपलब्ध नहीं है। उन ग्रामों के हितग्राही ग्रामीण उद्यान विस्तार अधिकारी के पास अपना आवेदन जमा कर सकते है। आवेदन के साथ किसान को पासपोर्ट आकार का फोटो, पहचान पत्र, खसरा बी-1/पी-2, बैंक पास बुक, जाति प्रमाण पत्र (अजा/अजजा के लिये) अनिवार्य रूप से प्रस्तुत करना होंगा।

No comments:

Post a Comment