Sunday, 26 July 2015

JANSAMPARK NEWS 13-6-15

जिला जनसंपर्क कार्यालय, बुरहानपुर म.प्र.

समाचार

टाउन हॉल कार्यक्रम 15 जून को   

बुरहानपुर/13 जून/ भारतीय रिजर्व बैंक भोपाल के निर्देशानुसार जिले में पावरलूम बुनकर एवं हाथकरघा क्षेत्र की लघु इकाईयों हेतु कार्यक्रम का आयोजन किया गया है। यह कार्यक्रम 15 जून प्रातः 11 बजे राजस्थान भवन बुरहानपुर में संपन्न होगा। 

       यह जानकारी जिला अग्रणी बैंक प्रबंधक श्री किशोर कुमार तोलानी ने दी। उन्होनें बताया कि कार्यक्रम में उक्त इकाईयों को आवश्यकताओं अनुरूप ऋण सुविधा उपलब्ध कराने हेतु चर्चा की जावेगी। 

       इस दौरान कलेक्टर श्रीमती जे.पी.आईरिन सिंथिया, रिजर्व बैंक के क्षेत्रीय निदेशक, बैंकों के वरिष्ठ अधिकारियों समेत जिले के बैंकर्स शामिल होगें। 
--------
क्रमांक/34/513/2014                                              पवार/सचिन/अ.बैं.प्र. 
समाचार 

जिले में अभी तक 12.9 मिली मीटर औसत वर्षा हुई

बुरहानपुर /13 जून/ जिले में वर्तमान मौसम में अभी तक 12.9 मिली मीटर औसत वर्षा हुई है। जबकि गत वर्ष इसी अवधि तक 4.9 मिली मीटर औसत वर्षा दर्ज की गई थी। 

पिछले 24 घंटो के दरम्यान बुरहानपुर तहसील में 12.8 मि.मी. तथा खकनार तहसील में 03 मि.मी. वर्षा मापी गई है। 

अधीक्षक भू-अभिलेख श्री एम.एल.पालीवाल ने बताया कि अभी तक सर्वाधिक वर्षा 16.6 मि.मी. बुरहानपुर और सबसे कम 09 मि.मी. नेपानगर में तथा 13.2 मि.मी. वर्षा खकनार तहसील में आकी गई है। 

--------
क्रमांक/35/514/2014                                        पवार/सचिन/भू.अ.


समाचार  

बुरहानपुर एवं खकनार विकासखण्ड के ग्रामों में पहुंचेगा कृषि क्रांति रथ 

बुरहानपुर/13 जून/ राज्य शासन किसान कल्याण तथा कृषि विकास विभाग द्वारा जिले में आज 14 जून को कृषि क्रांति रथ बुरहानपुर और खकनार विकासखण्ड के निम्नांकित ग्रामों में पहुंचेगा। 

उपसंचालक श्री मनोहरसिंह देवके ने उक्त जानकारी दी। उन्होनें बताया कि आज बुरहानपुर विकाखण्ड के ग्राम उतांबी, चिखल्या एवं बोरी में कृषि क्रांति रथ किसानों के बीच पहुंचेगा। इस दरम्यान प्रातः, दोपहर और सांध्यकालीन कृषक संगोष्ठी संपन्न होगी। उक्त ग्रामों में कृषि वैज्ञानिकों तथा तकनीकि अधिकारियों द्वारा उन्नत कृषि व नये उपकरणों तथा तकनीकि किसानों को अवगत कराई जायेगी। इस दौरान किसानों के खेतों से मिट्टी परीक्षण नमूने लिये जायेेगें। जिसकी उर्वरा शक्ति आंकलन करने मिट्टी को प्रयोगशाला भेजा जायेगा। जिससे किसान अपने खेत में भूमि की उर्वरा शक्ति बढ़ाने किन फसलों व खाद बीज का इस्तेमाल करें। कृषि वैज्ञानिक समुचित सलाह देगें। 

          इसी प्रकार खकनार विकासखण्ड क्षेत्रान्तर्गत ग्राम खड़की, सांवली और निमंदड़ में कृषि रथ भ्रमण करेगा। जिसका रात्रि विश्राम निमंदड़ में होगा। उक्त विकासखण्डों के प्रत्येक ग्राम में कृषक संगोष्ठी आयोजित होगी। यह संगोष्ठी प्रातः दोपहर और सांयकाल में आयोजित की जावेगी। जिसमें किसानों को कृषि तकनीक व उद्यानिकी व पशुपालन व अन्य विभिन्न विभागों द्वारा जानकारी प्रदान की जाएगी। इस मौके पर कृषि मूलक योजनाओं व तकनीकि तथा सुविधाओं के बारे में कृषकों को जागरूक किया जावेगा। 

इस अवसर पर कृषकों को कृषि, उद्यानिकी, पशु, मत्स्य पालन, स्वास्थ्य, वन, विद्युत, उद्योग, श्रम, पंचायत एवं ग्रामीण विकास, सहकारिता, बैंक, नाबार्ड, राजस्व, सामाजिक न्याय, महिला एवं बाल विकास, विपणन, कृषि उपज मंडी, बीज निगम, पीएचई, जलसंसाधन, ग्रामीण यांत्रिकी सेवा, दुग्ध संघ, आदिम जाति कल्याण, शिक्षा, पंचायत, वाणिज्य, रोजगार, आरसेटी, परिवहन, पर्यावरण, खाद्य नागरिक आपूर्ति, खादी ग्रामोद्योग, जन अभियान परिषद्, लोक सेवा गारंटी, रेशम आदि अन्य विभागों द्वारा विभागीय जानकारी ग्रामीणों को दी जाएगी। साथ ही कृषि विभाग द्वारा मिट्टी के नमूने लिये जायेगें। ग्रामीण कृषकों को मेढ़ पर लगाने खमैर के पौधें सशुल्क वितरित किये जायेगें। 

--------
क्रमांक/36/515/2014                                           पवार/सचिन/कृषि 


समाचार

तीन दिवसीय कृषि विज्ञान मेला का शुभारंभ 

मेले में तकरीबन 1200 किसानों ने पंजीयन कराया

केन्द्र एवं राज्य सरकार की पहली प्राथमिकता किसान - श्रीमती 

चिटनीस

बुरहानपुर/13 जून/ कृषि महोत्सव 2015 के अंतर्गत जिला स्तरीय कृषि विज्ञान मेला शनिवार को स्थानीय रेणुका कृषि उपज मंडी परिसर में प्रारंभ हुआ। मेले का शुभारंभ विधायक श्रीमती अर्चना चिटनीस ने माँ सरस्वती के छायाचित्र पर माल्यार्पण एवं द्वीप प्रज्जवलन कर किया। इस अवसर पर जिला पंचायत अध्यक्ष श्रीमती गायत्री पाटीदार, कलेक्टर श्रीमती जे.पी.आईरिन सिंथिया, जनपद पंचायत अध्यक्ष श्री किशोर पाटील, श्रीमती रमकीबाई दवलसिंग, नगर निगमाध्यक्ष श्री मनोज तारवाला, श्री अशोक महाजन, श्री ज्ञानेश्वर पाटील, श्री कैलाश यावतकर, श्री योगेश महाजन सहित कृषि उप संचालक मनोहर सिंह देवके एवं अन्य अधिकारीगण उपस्थित रहे।
श्रीमती चिटनीस ने कहा कि आज केन्द्र एवं राज्य सरकार की पहली प्राथमिकता किसान है। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान की मंशा कृषि को लाभ का धंधा बनाना है। श्री चौहान ने 10 वर्षांे में किसानों को कृषि ऋण में निरंतर ब्याज दर कटौती की है। साथ ही शून्य प्रतिशत ब्याज पर किसान को सहकारी सोसायटी से कर्ज की व्यवस्था की है। उन्होनें कहा कि किसानों को देशी बीज अथवा हाईब्रिड बीज हो उसे ही बोना चाहिए। ताकि भूमि और पर्यावरण अनुकुल बना रहे। किसानों को आधुनिक तकनीक का लाभ लेकर आर्थिक संसाधनों को निरंतर बढ़ाना होगा। इस तीन दिवसीय मेले में बाहर से आए वैज्ञानिकों ने किसानों की शंकाओं व जिज्ञासाओं का समाधान भी किया। 
नेपानगर विधायक श्री राजेन्द्र दादू ने माननीय श्री शिवराज सिंह चौहान का आभार व्यक्त करते हुए कहा किसान खेत की उर्वरा शक्ति को निरंतर बनाने रखने मिट्टी परीक्षण अवश्य कराये। कृषि क्रांति रथ के माध्यम से मिट्टी के नमूने लिये जा रहे है। साथ ही उसका परीक्षण कराया जा रहा। जिसका सभी किसान लाभ अनिवार्य उठाये। 
कलेक्टर ने कृषि विज्ञान मेले का संबोधित करते हुए कहा कि कृषक भाईयों को अपने खेत में ढलान वाले हिस्से में गढढा बनाकर बरसात का जल एकत्र करना चाहिए। जिससे पानी एवं मृदा को संरक्षित किया जा सके। इससे भू-जल स्तर, कुएं एवं ट््यूबवेल रिचार्ज होगें। कलेक्टर ने बताया कि किसान समिति बनाकर दुग्ध व्यवसाय प्रारंभ करें। जिला पंचायत सदस्य श्री यावतकर ने कहा कि केला टिशुकल्चर हेतु अधिकारी खेत में जाकर किसानों को नवीन तकनीकि से अवगत कराये। नगर निगम अध्यक्ष श्री तारवाला ने कृषकों से अपने खेत की मेढ़ पर पौधें लगाने का आव्हान किया। साथ ही किसान आधुनिक कृषि उपकरणों अपनाते हुए पशुपालन को भी बढ़ावा देवे। 
इस अवसर पर सोलापुर महाराष्ट्र से डॉ.एन.डी.पाटील ने किसानों को मृदा एवं जल संरक्षण पर व्याख्यान दिया। वही पुना से आये वैज्ञानिक ए.एन.सालंुके कृषकों को गन्ना फसल की उन्नत तकनीक अवगत कराई। डॉ.प्रशांत कुभांर ने अनार की उन्नत कृषि तकनीक समझाई। बनारस के प्रकाशसिंह रघुवंशी विभिन्न फसलों में उन्नत बीज एवं बीजों के उत्पादन की विधि कृषकों को जानकारी प्रदान की। 
यह रहा आकर्षण का केन्द्र:- तीन दिवसीय कृषि विज्ञान मेले में 50 से अधिक स्टॉल लगाये गये। साथ ही विभागों में संचालित योजनाओं की प्रदर्शनी मुख्य आकर्षण रही। इस दौरान कृषकों के लिये मिट््टी परीक्षण हेतु चलित वेन उपलब्ध है। यहां पर किसान अपने खेत की मिट्टी परीक्षण तुरंत करा सकते है। 
आत्मा परियोजना संचालक श्री राजेश चतुर्वेदी ने कार्यक्रम का ब्यौरा प्रस्तुत किया। उन्होनें बताया कि मेले के दूसरे दिन खण्डवा के डॉ. नीरज कुमुन्द द्वारा बकरी पालन एवं प्रबंधन पर, श्री कोटिस वडिया द्वारा किसानों को स्वीट एवं बेबी कार्न की जिले में सम्भावनाऐं विषय पर किसानों से रूबरू होगें। वही जलगांव से डॉ. के.वी. पाटील कृषकों को केला फसल की उन्नत तकनीक की जानकारी देगें। मेले के अंतिम दिन डॉ. आर.के. खरे रेशम की उन्नत खेती, वही पशु चिकित्सा महाविद्यालय महु के डॉ. एम.के. मेहता और डॉ. संदीप नानावटी पशु प्रबंधन एवं पशुओं में होने वाली प्रमुख बीमारियों एवं उनसे बचाव की जानकारी उपलब्ध करायेगें। मेले एवं कृषि संगोष्ठि में आये सभी वैज्ञानिकों एवं तकनीकि सस्ता का प्रबंधन कृषि विज्ञान केन्द्र बुरहानपुर डॉ.अजीतसिंह और उनके वैज्ञानिकों द्वारा किया गया। 
--------
क्रमांक/37/516/2015                                                   पवार/सचिन/कृषि/फोटो 



 


 

No comments:

Post a Comment