Monday, 27 July 2015

JANSAMPARK NEWS 15-7-15

जिला जनसम्पर्क कार्यालय, बुरहानपुर म.प्र.


समाचार


नागूलखेड़ा ग्राम में पौधारोपण कार्यक्रम संपन्न


पेड़ हमारी प्रकृति के लिये महत्वपूर्ण आभूषण है - श्री खराडे़ 


बुरहानपुर/15 जुलाई/ जिला मुख्यालय के समीपस्थ ताप्ती सलिला के तट पर बसे ग्राम नागुलखेड़ा के ग्रामीणों ने मंदिर परिसर में स्थित पौधें रोपकर पर्यावरण संरक्षण का संकल्प लिया। यह कार्यक्रम मध्य प्रदेश शासन जन अभियान परिषद विकासखण्ड बुरहानपुर की ग्राम ईकाई नागुलखेड़ा प्रस्फुटन समिति के तत्वावधान में संपन्न हुआ। 

इस अवसर पर उपसरपंच अरूण आनंदा चौरे, प्रस्फुटन समिति अध्यक्ष श्री संतोष धनके, सचिव श्री महेन्द्र चौरे, पंच श्री मोतीराम रामू, श्री ज्ञानेश्वर जुंबडे़, श्री प्रवीण चौरे, श्री ज्ञानेश्वर गिरी, श्री सुनील जैतकर, प्रखर वर्चस्वी कल्याण समिति अध्यक्ष श्री मोहन जोशी, जन अभियान परिषद श्री महेश कुमार खराड़े, आंचल कल्याण समिति अध्यक्ष श्री जितेन्द्र चोलकर, शेख अनीस, बुनकर कल्याण समिति एजाज अंसारी, वतन रायकवार शिक्षा समिति श्री कैलाश रायकवार, निखिल शिक्षण बहुउद््देशीय संस्था नरेन्द्र प्रजापति, खुशी वेलफेयर सोसायटी श्री दिनेश शंखपाल सहित अन्य ग्रामीण जन उपस्थित रहे। 

पौधा रोपण से लाभ 

पौधारोपण कार्यक्रम अवसर पर श्री खराडे़ ने कहा कि पुरानी कहावत है आम के आम, गुठली के दाम। इस कहावत से हम सभी परिचित हैं। यह तो हम जानते हैं कि जिस प्रकार व्यक्ति के तन को ढकने के लिये कपड़ा चाहिए। उसी प्रकार हमारी बंजर धरती को हरा-भरा बनाने हेतु व पर्यावरण संतुलन एवं अच्छे वातावरण के लिये पेड़-पौधें चाहिए। क्योंकि पेड़-पौधें ही हमारी प्रकृति के लिये आभूषण है। वृक्ष हमारे जीवन का आधार है। क्योंकि पेड़ों से हमें प्राण वायु मिल रही है। पर्यावरण सुरक्षा के लिए यदि हम पौधें लगायें तो उसका संरक्षण करना भी अनिवार्य है। क्योंकि इससे एक ओर तो हमें शुद्ध वातावरण में जीने का मौका मिलता है। साथ ही आर्थिक स्थिति को अच्छा बनाने का भी अवसर प्राप्त होता है। 

श्री जोशी ने पौधों का महत्व बताते हुए कहा कि यही पौधें विशाल वृक्ष बनकर हमें फल और शुद्ध वायु देने लगते है। इसलिये हर व्यक्ति अपने आसपास के पर्यावरण को स्वच्छ और हरा-भरा रखने के लिए पौधे अवश्य लगाऐ। साथ ही उसका संरक्षण भी करें। उन्होनें ग्राम के सभी लोगों को अधिक से अधिक पौधें लगाने का आग्रह भी किया। 

 --------
क्रमांक/40/597/2015                                                 सचिन/ज.अ.प./फोटो  

समाचार


अनुभवी संस्थाओं से प्रस्ताव आमंत्रित 20 जुलाई तक 


बुरहानपुर/15 जुलाई/ म.प्र. राज्य सहकारी अनुसूचित जाति वित्त एवं विकास निगम के निर्देशानुसार वर्ष 2015-16 हेतु जिले में औद्योगिक प्रतिष्ठानों, संस्थानों, कंपनियों, एन.एस.डी.सी. पार्टनर और अनुभवी संस्थाओं से प्रस्ताव आमंत्रित किये गये है। संस्थाओं को अनुसूचित जाति वर्ग के युवाओं को प्रशिक्षण देकर उन्हें प्रतिष्ठित प्रतिष्ठानों व संस्थाओं में 70 प्रतिशत रोजगार व स्वरोजगार उपलब्ध कराना अनिवार्य है। 

प्रभारी कलेक्टर श्री प्रकाश रेवाल ने यह जानकारी दी। उन्होनें बताया कि संस्थाऐं अनुसूचित जाति शिक्षित बेरोजगार युवाओं को रोजगार मूलक व्यवसायों, कौशल प्रशिक्षण सह रोजगार उपलब्ध करायेगी। जिनमें इलेक्ट्रीशियन एण्ड डोमेस्टिक इलेक्ट्रीशियन, वेल्डिंग, मोबाइल रिपेयरिगं, ड्रायवर कम मेकेनिक, इन्टिरियर डिजाईनिंग, फैशन डिजाईनिंग, फिटर, नर्सिग हॉस्पिटालिटी, सिक्युरिटी गार्ड, ब्युटी पार्लर, गारमेंटस मेकिगं, रिटेल ट्रेड, प्लबर, टैली अकाउंटिंग, पेपर दोना मैकिंग, बी.पी.ओ., लेदर गुड्स, ईफो फ्रेंडली बैंग एवं अन्य रोजगारोन्मुखी व्यवसाय शामिल है।  

इच्छुक फर्म एवं संस्थाऐ विस्तृत जानकारी हेतु कार्यपालन अधिकारी जिला अंत्यावसायी सहकारी विकास समिति मर्या. बुरहानपुर में कार्यालयीन समय में संपर्क करें। निविदा व आवेदन पत्र एक हजार रूपये जमा कराकर या डिमांड ड्राफ्ट जिला अंत्यावसायी सहकारी विकास समिति मर्या. बुरहानपुर के पक्ष में भेजकर प्राप्त कर सकते है। आवेदन पत्र 20 जुलाई 2015 सायं 5.30 बजे तक कार्यालय में जमा किये जावेगें। निर्धारित तिथि उपरांत प्राप्त आवेदनों पर विचार नही किया जायेगा।

--------
क्रमांक/41/598/2015                                                    सचिन/अंत्या.  

No comments:

Post a Comment