Sunday, 26 July 2015

JANSAMPARK NEWS 5-6-15

जिला जनसंपर्क कार्यालय, बुरहानपुर म.प्र.

समाचार  

कृषि महोत्सव संबंधी समीक्षा बैठक संपन्न 

जिले में फुलों एवं फलों की खेती को बढ़ावा देवे-श्री श्रीवास्तव 

आयुक्त ने कृषि महोत्सव संबंधित बैठक में दिये निर्देश

बुरहानपुर/5 जून / राज्य शासन की मंशा है, कि कृषि का उत्पादन बढ़ाने समग्र परिणाम मूलक कार्य होना चाहिए। इसमें उद्यानीकि, पशुपालन, मत्स्य पालन, पौधारोपण, रेशम, वानिकी, जल संरक्षण को प्रोत्साहित किया जाना आवश्यक होगा। उद्यानिकी जिला होने के कारण यहां पर फूलों की खेती एवं प्रसंकरण को बढ़ाने की आवष्यकता है। 

यह बात सहकारिता एवं पंजीयक सहकारी संस्थाऐं आयुक्त मध्य प्रदेष षासन श्री मनीष श्रीवास्तव ने कृषि महोत्सव समीक्षात्मक बैठक में कही। उन्होनें कहा कि जिले मंे कड़कनाथ मुर्गीपालन को बढ़ावा देकर उसकी बाजार मंे विक्रय व्यवस्था भी करना सुनिष्चित करें। ताकि छोटे किसानों को खेती के अलावा अतिरिक्त आय भी प्राप्त हो सके। विघुत विभाग को स्थाई कनेक्षन कृषि महोत्सव के दौरान अधिक से अधिक संख्या में कराये। दुग्ध उत्पादन को बढ़ाने हेतु दुग्ध समितियों का गठन करें। पषुपालन हेतु किसानों के प्रकरण बैंक के माध्यम से स्वीकृत कराये। अत्याधुनिक कृषि यंत्रो का उपयोग किसानों से कराने जागरूक करें। रेज्डबेड प्लान्टर से बुआई कराये। वनाधिकार पट्टा प्राप्त किसानों तथा मत्स्य पालकों का शत-प्रतिषत किसान क्रेडिट कार्ड बनाकर ऋण स्वीकृत कराये। उन्होनें बैठक कहा कि कृषि महोत्सव को मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान ने मुख्य कार्यक्रम माना है। यही कारण है कि मध्य प्रदेश को लगातार कृषि कर्मण अवार्ड प्राप्त हो रहे है। आज कृषि महोत्सव की पूरे देश में चर्चा हो रही है। कृषि क्रांति रथ के माध्यम से किसानों को कृषि की उन्नत तकनीक की जानकारी दी जाये। 

कलेक्टर श्रीमती सिंथिया ने बताया कि कृषि महोत्सव में कृषि क्रांति रथ के लिये भ्रमण की नियमित मॉनीटरिंग हो रही है। उन्होेंनें बताया कि जिले में 10 पॉलीहाउस एवं केला राईपनिंग सेंटर के प्रकरण बनाये गये है। 

इस मौके पर सहकारिता संयुक्त आयुक्त इंदौर श्री जगदीश कन्नौज, सीईओ जिला पंचायत श्री बसंत कुर्रे, अपर कलेक्टर श्री प्रकाश रेवाल, एसडीएम श्री काशीराम बड़ोले, सहकारिता उपायुक्त श्री जे.एल.बर्डे, कृषि विज्ञान केन्द्र डॉ.अजीत सिंह, जिला सहकारी केन्द्रीय बैंक खण्डवा मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री ए.के.जैन, सहायक संचालक उद्यानिकी श्री आर.एन.एस.तोमर, उपसंचालक कृषि श्री एम.एस.देवके, परियोजना संचालक आत्मा श्री राजेश चतुर्वेदी सहित अन्य विभागों के अधिकारी उपस्थित रहे। 

----------
क्रमांक/07/486/2015                                       पवार/सचिन/कृषि/फोटो    

समाचार  

कृषक खेती में पुरानी पद्धति को नही भूलें-श्री श्रीवास्तव 

रात्रि कृषक संगोष्टी में आयुक्त ने दी सलाह  

 आयुक्त ने कृषकों को खमैर पौधे भी वितरित किये 

बुरहानपुर/5 जून / राज्य शासन किसान कल्याण तथा कृषि विकास विभाग द्वारा बुरहानपुर विकासखण्ड के ग्राम बोदरली में रात्रि कृषि संगोष्ठी आयोजित की गई। इस दौरान सहकारिता एवं पंजीयक सहकारी संस्थाऐं आयुक्त श्री मनीष श्रीवास्तव ने किसानों को सलाह देते हुए बताया कि वर्तमान में हम नई वैज्ञानिक सोच और तकनीकि आने से हम पुरानी पद्धति को नही भूलें। हमें खेती में जैविक खाद का उपयोग करना होगा। श्रीवास्तव ने कहा कि पशुपालन कृषि आधारित व्यवसाय है। पशुपालन को हर हाल में बढ़ावा दिया जाये। किसानों को उन्नत नस्ल के दुधारू पशु नाबार्ड/रोजगार मूलक योजनाओं से सुलभ कराये जाये। कृषि क्रांति रथ कृषि वैज्ञानिक किसानों को समग्र तकनीकि जानकारी दे रहे है। किसान इस संगोष्टी से खेती की उन्नत तकनीक सीखे। उन्होनें कृषकों को खमैर के पौधे वितरित किये। जिसमें कृषक मधुकर रघुनाथ महाजन ने 100 पौधे, मुकुन्दा आनंद 100 और मनोहर काशीनाथ महाजन ने अपने खेत की मेढ़ पर खमैर के पौधें लगाने हेतु प्राप्त किये। महिला बाल विकास विभाग द्वारा बच्चों का युनिफार्म वितरण किये गये। इसी प्रकार दुग्ध उत्पादन करने वाले किसानों को बोनस के रूप में 54 हजार रूपये वितरण किये। 
आयुक्त ने कहा कि खरीफ व रबी फसलों के बीजोपचार कल्चर के बारे में भी विस्तृृत रूप से किसानों को समझाया जाये। कृषि संगोष्ठी के दौरान उक्त प्रकरणों में जरूरतमंदों को बैंक ऋण सुविधा दिलाये। रात्रि संगोष्टी में जनपद सदस्य श्रीमती संगीता बाई किशोर, सहकारिता संयुक्त आयुक्त इंदौर श्री जगदीश कन्नौज, डिप्टी कलेक्टर श्री सुमेरसिंह मुजाल्दा, उपायुक्त सहाकारिता श्री जे.एल.बर्डे, कृषि विज्ञान केन्द्र डॉ.अजीत सिंह, जिला सहकारी केन्द्रीय बैंक खण्डवा मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री ए.के.जैन, सहायक संचालक उद्यानिकी श्री आर.एन.एस.तोमर, अनुविभागीय अधिकारी वन श्री एम.एल.हरित, पशुचिकित्सा डॉ. एम.के.शर्मा, परियोजना संचालक आत्मा श्री राजेश चतुर्वेदी सहित अन्य विभागों के अधिकारी उपस्थित रहे। 

कलेक्टर श्रीमती जे.पी.आईरिन सिंथिया ने कहा कि इस साल मौसम विभाग के वैज्ञानिकों ने वर्षा कम होने की संभावना जताई है। किसान खेत में ढलान वाले हिस्सें में गढढा बनाकर वर्षा का पानी एकत्र कर सकते है। जिससे किसानों के खेत का पानी बाहर नहीं जायेगा। खेत का पानी खेत में ही रहेगा। इस पानी से जलस्तर बढ़ेगा। साथ ही कुएं, ट्यूबवेल रिचार्ज होगें। सिंचाई के लिये ड्रीप सिस्टम का उपयोग करें। किसानों को खेत-तालाब बनाने पर जोर दिया जाये। किसान खेती के अलावा कृषि आधारित अन्य व्यवसाय भी अपनाये। जिससे वे अतिरिक्त आय अर्जित कर सके। किसान खेत में चारे के लिये एक एकड़ भूमि अवश्य छोडे़। ताकि चारे की कमी ना हो। साथ ही किसान खेती में निरंतर आय बनाये रखने के लिये पशुपालन कर दुग्ध उत्पादन को बढ़ावा दे। 

      कलेक्टर ने संगोष्टी में जानकारी देते हुए बताया कि प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना के तहत वार्षिक प्रीमियम सिर्फ 12 रूपये जमा करने पर 2 लाख रूपये का दुर्घटना बीमा हो जाता है। इस योजना में समस्त बचत बैंक खाताधारक जिनकी आयु 18 से 70 वर्ष है। इसी प्रकार से प्रधानमंत्री जीवन ज्योति योजना में वार्षिक प्रीमियम कुल 330 रूपये बैंक खाताधारक को जमा करना है। जिसमें 2 लाख रूपये का जीवन ज्योति बीमा कराया जा सकता है। इस हेतु बचत बैंक खाताधारक की आयु 18 से 50 वर्ष होना चाहिए। इसमें आपके बाद परिवार को भी बीमा राशि मिलेगी। अधिक जानकारी के लिये कृृपया टोल फ्री नंबर 1800110001/18001801111 पर संपर्क कर सकते है। 

कृषक संगोष्टि को सीईओ जिला पंचायत श्री बसंत कुर्रे ने संबोधित करते हुए कहा कि जलवायु परिवर्तन के कारण बेमौसम बारिश हो रही है। जिससें फसलों पर प्रभाव पड़ा है। इसलिये किसानों को कृषि के अलावा अन्य व्यवसायों को अपनाने की जरूरत है। शासन द्वारा चलाई जा रही योजनाओं की जानकारी हेतु संबंधित विभाग से संपर्क कर सकते है। कार्यक्रम का संचालन एस.ए.डी.ओ श्री वी.टी.पाटील ने किया। आभार प्रदर्शन कृषि उपसंचालक श्री मनोहर सिंह देवके ने माना। 
----------
क्रमांक/08/487/2015                             पवार/सचिन/कृषि/फोटो    
समाचार 

आयुक्त ने ग्राम सिरसोदा में गुलाब की खेती का किया अवलोकन 

साथ ही के.वी.के.बुरहानपुर में कड़कनाथ हेचरी के संबंध में जानकारी ली

बुरहानपुर/5 जून / सहाकारिता आयुक्त श्री मनीष श्रीवास्तव ने दो दिवसीय भ्रमण के दौरान कृषि विज्ञान केन्द्र में स्थित कड़कनाथ हेचरी के संबंध में जानकारी प्राप्त की। इस दौरान उन्होनें अधिकारियों एवं वैज्ञानिकों को निर्देशित किया कि जिले में किसानों को अधिक से अधिक संख्या में कुक्कुट पालन के लिये प्रेरित करें। साथ ही इस व्यवसाय को बाजार से जोड़ें। इस भ्रमण में ग्राम सिरसोदा में पॉलीहाउस के माध्यम से डच गुलाब की खेती को देखा। इसके श्रेत्र विस्तार के लिये उद्यानिकी विभाग को निर्देशित किया। ग्राम पांतोड़ा रोड़ स्थित पपेन फैक्ट्री का अवलोकन किया। 
भ्रमण में आयुक्त ने लालबाग में अनार की खेती देखी। जिसें उन्होनें काफी सराहा। कृषक श्री राज जैन से अनार की खेती के बारे में चर्चा की। कृषक ने बताया कि लगभग 10 हजार पौधें भगवा किस्म के लगाये है। साथ ही उन्होनें खेत में आंवला, अमरूद, कागजी निम्बू तथा बांस का पौधारोपण भी किया है। नवलसिंह सहकारी शक्कर कारखाने का निरीक्षण किया। 
इस मौके पर सहकारिता संयुक्त आयुक्त इंदौर श्री जगदीश कन्नौज, सहाकारिता उपायुक्त श्री जे.एल.बर्डे, कृषि विज्ञान केन्द्र डॉ.अजीत सिंह, जिला सहकारी केन्द्रीय बैंक खण्डवा मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री ए.के.जैन, कृषि उपसंचालक श्री एम.एस.देवके, उद्यानिकी सहायक संचालक श्री आर.एन.एस.तोमर, आत्मा परियोजना संचालक श्री राजेश चतुर्वेदी सहित अन्य विभागों के अधिकारी उपस्थित रहे। 
----------
क्रमांक/09/488/2015                             पवार/सचिन/कृषि/फोटो    

समाचार  

जिले के दोनों विकासखण्ड क्षेत्रों के 6 ग्रामों में पहुंचेगा कृषि क्रांति रथ

बुरहानपुर/5 जून/ राज्य शासन किसान कल्याण तथा कृषि विकास विभाग द्वारा जिले में आज 6 जून को कृषि क्रांति रथ बुरहानपुर और खकनार विकासखण्ड के निम्नांकित ग्रामों में पहुंचेगा। 

उपसंचालक श्री मनोहरसिंह देवके ने उक्त जानकारी दी। उन्होनें बताया कि आज बुरहानपुर विकाखण्ड के ग्राम उमरदा, जैनाबाद एवं सूखपुरी में कृषि क्रांति रथ किसानों के बीच पहुंचेगा। इस दरम्यान प्रातः, दोपहर और सांध्यकालीन कृषक संगोष्ठी संपन्न होगी। उक्त ग्रामों में कृषि वैज्ञानिकों तथा तकनीकि अधिकारियों द्वारा उन्नत कृषि व नये उपकरणों तथा तकनीकि किसानों को अवगत कराई जायेगी। इस दौरान किसानों के खेतों से मिट्टी परीक्षण नमूने लिये जायेेगें। जिसकी उर्वरा शक्ति आंकलन करने मिट्टी को प्रयोगशाला भेजा जायेगा। जिससे किसान अपने खेत में भूमि की उर्वरा शक्ति बढ़ाने किन फसलों व खाद बीज का इस्तेमाल करें। कृषि वैज्ञानिक समुचित सलाह देगें। 

          इसी प्रकार खकनार विकासखण्ड क्षेत्रान्तर्गत ग्राम तेलियाथड़, डवालीकलां और गोन्द्री में कृषि रथ भ्रमण करेगा। जिसका रात्रि विश्राम गोन्द्री में होगा। उक्त विकासखण्डों के प्रत्येक ग्राम में कृषक संगोष्ठी आयोजित होगी। यह संगोष्ठी प्रातः दोपहर और सांयकाल में आयोजित की जावेगी। जिसमें किसानों को कृषि तकनीक व उद्यानिकी व पशुपालन व अन्य विभिन्न विभागों द्वारा जानकारी प्रदान की जाएगी। इस मौके पर कृषि मूलक योजनाओं व तकनीकि तथा सुविधाओं के बारे में कृषकों को जागरूक किया जावेगा। 

इस अवसर पर कृषकों को कृषि, उद्यानिकी, पशु, मत्स्य पालन, स्वास्थ्य, वन, विद्युत, उद्योग, श्रम, पंचायत एवं ग्रामीण विकास, सहकारिता, बैंक, नाबार्ड, राजस्व, सामाजिक न्याय, महिला एवं बाल विकास, विपणन, कृषि उपज मंडी, बीज निगम, पीएचई, जलसंसाधन, ग्रामीण यांत्रिकी सेवा, दुग्ध संघ, आदिम जाति कल्याण, शिक्षा, पंचायत, वाणिज्य, रोजगार, आरसेटी, परिवहन, पर्यावरण, खाद्य नागरिक आपूर्ति, खादी ग्रामोद्योग, जन अभियान परिषद्, लोक सेवा गारंटी, रेशम आदि अन्य विभागों द्वारा विभागीय जानकारी ग्रामीणों को दी जाएगी। साथ ही कृषि विभाग द्वारा मिट्टी के नमूने लिये जायेगें। ग्रामीण कृषकों को मेढ़ पर लगाने खमैर के पौधें सशुल्क वितरित किये जायेगें। 

----------
क्रमांक/10/489/2015                             पवार/सचिन/कृषि   

No comments:

Post a Comment