Sunday, 26 July 2015

JANSAMPARK NEWS 9-6-15

जिला जनसंपर्क कार्यालय, बुरहानपुर म.प्र.

समाचार  

जनसुनवाई में विभिन्न समस्याओं का निराकरण करने निर्देश जारी 

बुरहानपुर/9 जून/ कलेक्टर श्रीमती जे.पी.आईरिन सिंथिया ने जनसुनवाई में शहरी एवं ग्रामीण क्षेत्रवासियों की समस्याऐं सुनी। उन्होनें तत्काल समस्याओं के निराकरण के लिये विभागीय अधिकारियों को निर्देशित किया। 

कलेक्टर को जनसुनवाई में ग्रामीण क्षेत्र जम्बूपानी से आये टैªक्टर मालिक शौकत अली साथ आये मजदूरों ने बताया कि ग्राम पंचायत द्वारा सीसी रोड़ और मुरूम सड़क निर्माण कार्य कराया गया है। इस कार्य मंे टैªक्टर से सामग्री ढुलवाई और श्रमिकों की मजदूरी का भुगतान पंचायत द्वारा नहीं किया गया है। यह कार्य रोजगार गारंटी योजना के तहत किया गया है। कलेक्टर ने इस शिकायत आवेदन पर सीईओ जनपद पंचायत बुरहानपुर को त्वरित जांच कर उक्त भुगतान कराने हेतु निर्देश दिये है। इसी प्रकार से मोरदाखुर्द और सेलगांव के मछुआरों ने बताया कि तीन माह तक मत्स्य आखेट पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। इस दौरान हमारी जीविका उपार्जन की समस्या आ गई है। मछुआरों को मत्स्य विभाग सहायक संचालक के पास भेजा गया। मत्स्य आखेट की प्रतिबंध अवधि में मछुआरों को अन्य कार्य उपलब्ध कराने की बात कही। साथ ही किसी नियम के तहत वैकल्पिक कार्य मुहैया कराने विभाग को आगाह किया है। जिससे मछुआरों को आजीविका प्रभावित नही होगी। बख्खारी से आये बीपीएल महिलाओं के दल ने ग्राम पंचायत द्वारा आवासीय पट्टे नही दिये जाने की शिकायत की। जिस पर बीपीएल सूची के आधार पर इंदिरा आवास आवंटन सूची में पात्रता के आधार पर नाम दर्ज करने का आश्वासन दिया। सीईओ जनपद को निर्देश दिये गये कि ग्राम पंचायत की आबादी भूमि केे पट्टे दिलाना सुनिश्चित करें। कलेक्टर को उक्ताशय की शिकायत ग्राम की पंचशीला अनिल मेढ़े, अनिता ब्रजलाल, सुनंदा मनोहर, मंगला सौपान आदि ने प्रस्तुत की। 

कलेक्टेªट सभाकक्ष में आयोजित जनसुनवाई में शहरी क्षेत्र से अनेकों आवेदकों की शिकायतें भी सुनी गई। कलेक्टर को दाउदपुरा वासियों ने बताया कि रिलायन्स द्वारा टॉवर स्थापित किया जा रहा है। इसकी तरंगों से प्राणी जगत पर विपरीत प्रभाव पड़ता है। टॉवर को अन्यत्र कही स्थापित कराये। कलेक्टर ने इस समस्या से निजात दिलाने के लिये बीएसएनएल को जांच कराने के निर्देश दिये है। आमजन की सुरक्षा को दृष्टिगत रखते हुए मोईनउद््दीन, सत्तार भाई, एडवोकेट रईस भाई, ज्ञानेश्वर तायडे़, रईस एहमद, शेख युसुफ आदि ने उक्त आवेदन प्रस्तुत किया। दौलतपुरा से यासमीन, नजमाबी, जुबैदा, रूबीना आदि अन्य महिलाओं के दल ने बताया कि अतिक्रमण कर लेट्रिन का निर्माण किया गया है। जिससे रास्ता बंद हो गया है। साथ ही लेट्रिन का पानी बहकर हमारे घर के आसपास फैल रहा है। इस गंदगी से हमारे स्वास्थ पर असर पड़ रहा है। इस गंदगी से शीघ्र समाधान कराये। रास्तीपुरा निवासी महिला आवेदक शीला विश्वकर्मा ने सीमांकन की मांग की है। मंदिर की भूमि में बाउन्ड्रीवाल बनाना है। सीमांकन के बाद ही उक्त कार्य संभव है। किन्तु सीमांकन में विरोध उत्पन्न हो रहा है। कलेक्टर ने उक्त दोनों प्रकरणों में तहसीलदार को जांच कर उचित कार्यवाही करने निर्देश दिये है। इस दरम्यान विविध प्रकरणों में राज्य बीमारी सहायता, अतिक्रमण हटाने, राशन कार्ड बनाने, स्थानांतरण कराने आदि अन्य आवेदको को राहत दिलाने का आश्वासन दिया गया। 
----------
क्रमांक/24/503/2015                                              पवार/सचिन/प्रशासन/फोटो





समाचार  

आज कृषि क्रांति रथ कहां-कहां पहंुचेगा 

बुरहानपुर/9 जून/ राज्य शासन किसान कल्याण तथा कृषि विकास विभाग द्वारा जिले में आज 10 जून को कृषि क्रांति रथ बुरहानपुर और खकनार विकासखण्ड के निम्नांकित ग्रामों में पहुंचेगा। 

उपसंचालक श्री मनोहरसिंह देवके ने उक्त जानकारी दी। उन्होनें बताया कि आज बुरहानपुर विकाखण्ड के ग्राम हरदा, सुक्ता एवं धूलकोट में कृषि क्रांति रथ किसानों के बीच पहुंचेगा। इस दरम्यान प्रातः, दोपहर और सांध्यकालीन कृषक संगोष्ठी संपन्न होगी। उक्त ग्रामों में कृषि वैज्ञानिकों तथा तकनीकि अधिकारियों द्वारा उन्नत कृषि व नये उपकरणों तथा तकनीकि किसानों को अवगत कराई जायेगी। इस दौरान किसानों के खेतों से मिट्टी परीक्षण नमूने लिये जायेेगें। जिसकी उर्वरा शक्ति आंकलन करने मिट्टी को प्रयोगशाला भेजा जायेगा। जिससे किसान अपने खेत में भूमि की उर्वरा शक्ति बढ़ाने किन फसलों व खाद बीज का इस्तेमाल करें। कृषि वैज्ञानिक समुचित सलाह देगें। 

          इसी प्रकार खकनार विकासखण्ड क्षेत्रान्तर्गत ग्राम पिपरी बोरवन, धारबेलथड़ और पीपलपानी में कृषि रथ भ्रमण करेगा। जिसका रात्रि विश्राम पीपलपानी में होगा। उक्त विकासखण्डों के प्रत्येक ग्राम में कृषक संगोष्ठी आयोजित होगी। यह संगोष्ठी प्रातः दोपहर और सांयकाल में आयोजित की जावेगी। जिसमें किसानों को कृषि तकनीक व उद्यानिकी व पशुपालन व अन्य विभिन्न विभागों द्वारा जानकारी प्रदान की जाएगी। इस मौके पर कृषि मूलक योजनाओं व तकनीकि तथा सुविधाओं के बारे में कृषकों को जागरूक किया जावेगा। 

इस अवसर पर कृषकों को कृषि, उद्यानिकी, पशु, मत्स्य पालन, स्वास्थ्य, वन, विद्युत, उद्योग, श्रम, पंचायत एवं ग्रामीण विकास, सहकारिता, बैंक, नाबार्ड, राजस्व, सामाजिक न्याय, महिला एवं बाल विकास, विपणन, कृषि उपज मंडी, बीज निगम, पीएचई, जलसंसाधन, ग्रामीण यांत्रिकी सेवा, दुग्ध संघ, आदिम जाति कल्याण, शिक्षा, पंचायत, वाणिज्य, रोजगार, आरसेटी, परिवहन, पर्यावरण, खाद्य नागरिक आपूर्ति, खादी ग्रामोद्योग, जन अभियान परिषद्, लोक सेवा गारंटी, रेशम आदि अन्य विभागों द्वारा विभागीय जानकारी ग्रामीणों को दी जाएगी। साथ ही कृषि विभाग द्वारा मिट्टी के नमूने लिये जायेगें। ग्रामीण कृषकों को मेढ़ पर लगाने खमैर के पौधें सशुल्क वितरित किये जायेगें। 

----------
क्रमांक/25/504/2015                                                 पवार/सचिन/कृषि


समाचार  

किसान कृषि क्रांति रथ का भरपूर लाभ उठाये-श्रीमती सिंथिया 

बुरहानपुर/9 जून/ राज्य शासन किसान कल्याण तथा कृषि विकास विभाग द्वारा जिले में कृषि क्रांति रथ गांव-गांव पहुंच रहा है। इस दरम्यान कृषक संगोष्ठी भी आयोजित की जा रही है। जिसमें किसानों को खरीफ, रबी एवं ग्रीष्म मौसम में बोई जाने वाली फसलों की जानकारी कृषि वैज्ञानिकों द्वारा उपलब्ध कराई जा रही है। इस मौके पर सर्व सम्बधित किसान भाई अवश्य ही अपनी आमद देवे। वैज्ञानिक द्वारा बतलाई जा रही उन्नत कृषि तकनीक का अनुकरण करें। जिससे किसानों को कृषि में उत्पादन अधिक और लागत कम करने की जानकारी प्राप्त हो सके। 

यह अपील कलेक्टर श्रीमती जे.पी.आईरिन सिंथिया ने सर्व सम्मानीय कृषक बन्धुओं से की है। उन्होनें बताया कि शासन के निर्देशानुसार किसान पर्याप्त अग्रिम उर्वरक उठाव कर भण्डारण सोसायटी से अवश्य कर ले। ताकि खरीफ मौसम में उन्हें उर्वरक के लिये परेशानियों का सामना नही करना पडे़। कृषि क्रांति रथ के माध्यम से शासन की विभिन्न कृषिमूलक योजनाओं की जानकारी दी जा रही है। इसका लाभ प्राथमिकता से अर्जित करें। खेतों की मिट्टी परीक्षण हेतु नमूनें लिये जा रहे है। जिसकी रिपोर्ट वैज्ञानिकों द्वारा प्राप्त की जायेगी। उक्त आधार पर किसानों को अपने खेत की मिट्टी की उर्वरा शक्ति बढ़ाने की तकनीक मिलेगी। जिससे फसल उत्पादन में बढ़ोतरी होगी। कौनसी फसल के लिये कृषक की भूमि अनुकुल है। तमाम बातें मिट्टी परीक्षण के उपरांत किसानों को अवगत कराई जायेगी। राज्य शासन ने कृषि पर ही किसान निर्भर नही रहे। इस हेतु वैकल्पिक अर्थात कृषि आधारित व्यवसाय को अपनाने विभागों द्वारा मार्गदर्शन दिया जा रहा है। किसान भाई इसमें उद्यानिकी, पशुपालन, रेशम, मुर्गीपालन, मत्स्य पालन की जानकारी प्राप्त करें। उक्त विभागों के अधिकारी कृषक संगोष्ठी में व्यवसायाओं के बारे में विस्तार से समझा रहे है। विभागीय अधिकारियों से अपने स्वेच्छानुसार व्यवसाय करने के संबंध में शासन की योजनाएं व अन्य तकनीक आगे आकर प्राप्त करें। ताकि किसान भाई मौसमी आपदाओं से हाल नुकसान को संतुलित कर सके। बेमौसम की मार से खेती प्रभावित होने पर वह अपनी जीविका पशुपालन, रेशम पालन, मत्स्य पालन अन्य व्यवसायों से कर सकते है। इस संबंध में किसी भी प्रकार की तकनीकि या प्रशिक्षण की जरूरत है तो ऐसे किसान भाई आगे आये। उन्हें अवश्य ही तकनीकि रूप से प्रशिक्षित किया जायेगा। शासन से जो भी मदद संभव है। वह पात्रता के आधार पर दिलवाई जायेगी। यह कार्यक्रम 25 मई से प्रारंभ है। जो 15 जून 2015 तक जारी रहेगा। याद रखे कि जल संरक्षण को महत्व दिया जाये। भू-जल स्तर बढ़ाने फार्म पॉण्ड (तालाब), मेढ़ बंधान, नाला, नदी में बोरी बंधान अन्य किसी भी माध्यम से जल भण्डारण को हर हाल में करें। कृषि, उद्यानिकी के साथ ही बिना पानी के कोई भी कार्य संभव नही है। इसका ध्यान किसान भाईयों को अवश्य रखना चाहिए। इस बीच जहां भी कृषि क्रांति रथ और कृषक संगोष्ठियां होना बाकी है। ऐसे ग्रामों में किसान भाई सारे काम छोड़कर जरूर से जरूर उपस्थित होगें। यह आशा ही नहीं मुझें पूर्ण विश्वास है। 

----------
क्रमांक/26/505/2015                                           पवार/सचिन/कृषि/फोटो

No comments:

Post a Comment