Saturday, 21 November 2015

JANSAMPARK NEWS 15-11-15

जिला जनसंपर्क कार्यालय, बुरहानपुर म.प्र. 

समाचार 

अब आंगनवाड़ी केन्द्रों में खेल-खेल में शिक्षा हासिल करेगें बच्चें 

बच्चों के शारीरिक एवं मानसिक विकास हेतु विभिन्न नवाचारों को 

अपनाये आंगनवाड़ी कार्यकताऐं-श्रीमती सिंथिया 

कलेक्टर ने क्षमता संवर्धन कार्यशाला में दी सीख

बुरहानपुर/ 15 नवम्बर /- जिले में शाला पूर्व शिक्षा की सुदृढ़ता को सुनिश्चित करने एवं कुपोषण में कमी लाने के उद््देश्य से कलेक्टर श्रीमती जे.पी.आईरीन सिंथिया के मुख्य आतिथ्य में स्थानीय रेणुका मण्डी प्रागण में आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं एवं सहायिकाओं की एक दिवसीय प्रशिक्षण सह कार्यशाला संपन्न हुई। 
इस अवसर पर मुख्य अतिथि ने छोटी बालिकाओं के साथ मॉ सरस्वती के छायाचित्र पर द्वीप प्रज्जवलन पुष्पमाला अर्पित कर कार्यक्रम का विधिवत शुभारंभ किया। श्रीमती सिंथिया ने कार्यशाला में आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं और सहायिकाओं के कार्यो की प्रमुखता को दोहराते हुए भूरी-भूरी प्रशंसा की। उन्होनें कहा कि पौष्टिक आहार से ही बच्चों का शारीरिक और मानसिक विकास संभव है। महिला एवं बाल विकास द्वारा संचालित सभी आंगनवाड़ी केन्द्रों में बच्चों की सभी सुविधाएं उपलब्ध है। आंगनवाड़ी केन्द्रों पर आने वाले बच्चों के लिए पौष्टिक आहार, स्वास्थ सुविधाएं एवं खेल-खेल में शिक्षा मुहैया कराई जा रही है। बच्चों को प्रारंभिक शिक्षा भी देना भी सुनिश्चित किया गया है। केन्द्रों पर नियमित रूप से बच्चों को साफ-सफाई पर विशेष ध्यान दिया जाता है। बच्चों को शिक्षा से जोड़ने गिनती, अक्षर ज्ञान, विविध खेल और खिलोने के माध्यम से आंगनवाड़ी सहायिका/कार्यकताऐं बच्चों का मानसिक विकास पर जोर दिया जा रहा है। कलेक्टर ने जिला कार्यक्रम अधिकारी को श्रीमती शारदा नेरकर आंगनवाड़ी कार्यकर्ता शिकारपुरा द्वारा बच्चों के मानसिक विकास हेतु तैयार किये गये अबेकस एवं रिंग सर्कल को जिले की सभी आंगनवाड़ी केन्द्रों में उपलब्ध कराने के निर्देश देते हुए कहा कि जिन ग्रामों में स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा स्मार्ट क्लास का संचालन किया जा रहा है। वहां सप्ताह में एक दिन आंगनवाड़ी केन्द्रों के बच्चों को भी क्लास के माध्यम से सिखाये। उन्होनें कहा कि जिले में विगत एक साल में महिला बाल विकास विभाग ने बेहतर कार्य करते हुए सफलता अर्जित की है। जिले में किये गये नवाचारों को राज्य स्तर पर सराहना प्राप्त हुई है। इंदौर संभाग में भी आंगनवाड़ी केन्द्रों को बुरहानपुर मॉडल के आधार पर तैयार करने के लिये संभागायुक्त ने निर्देश दिये है। कलेक्टर ने आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा कि किसी भी कार्य की सफलता हेतु सशक्त नेतृत्व की आवश्यकता होती है। आंगनवाड़ी केन्द्रों को नर्सरी प्ले स्कूल के रूप में विकसित करने के लिये नेतृत्व का बीड़ा आंगनवाड़ी टीचर द्वारा उठाया गया है। इसे सफलतापूर्वक लागू भी किया है। अब हमें अपने अनुभवों को आगे बढ़ाते हुए कार्यक्रम को बेहतर बनाने के लिये निरंतर प्रयास करना होगे। उन्होनें जिले में लागू किये गये टिफिन एवं शिशु विकास कार्ड के नवाचारों को राज्य स्तर पर लागू किये जाने के लिये सभी आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं को बधाई देते हुए जिले के सभी आंगनवाड़ी केन्द्रों में दोनो नवाचारों को एक दिसम्बर से लागू करने की बात भी कही। इस दौरान कलेक्टर ने इस कार्य को सफल बनाने के लिये जिले के सभी मीडिया साथियों को भी बधाई दी। 
कलेक्टर ने कार्यशाला में आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं द्वारा प्रदर्शित किये गये। विभिन्न नवाचारों का अवलोकन कर सराहना की। कार्यक्रम में फाइट हंगर फाउण्डेशन के सहयोग से स्कूली बच्चों हेतु तैयार की गई ‘‘किशोरों के लिये पोषण और स्वास्थ्य निर्देशिका‘‘ पुस्तिका एवं शिशु विकास कार्ड का विमोचन भी किया। जिला कार्यक्रम अधिकारी श्री अब्दुल गफ्फार ने कार्यक्रम के आयोजन के उद््देश्यों की जानकारी देते हुए प्रतिभागियों को लाड़ली लक्ष्मी योजना, लाड़ो अभियान, सुपोषण, शौर्यादल एवं स्वागत लक्ष्मी योजना की विस्तृत जानकारी दी। 
मुख्य अतिथि ने कार्यशाला में आंगनवाड़ी केन्द्रों को नर्सरी प्ले स्कूल के रूप में विकसित करने में सहयोग करने वाले जनप्रतिनिधियों, स्वयंसेवी संस्थाओं, उधोगपतियों, सामाजिक संगठनों एवं स्थानीय जनसमुदाय को प्रशंसा-पत्र एवं स्मृति चिन्ह भेंटकर सम्मानित भी किया। इस मौके पर सुश्री भामी बोहरा, संदीप देवल, शेलेन्द्र गुजराती सहित जिले की समस्त परियोजना अधिकारी, पर्यवेक्षक, आंगनवाड़ी कार्यकर्ता एवं सहायिका उपस्थित रही। 
टीपः-फोटोग्राफ संलग्न क्रमांक- 1 और 2 










-------
क्रमांक-40/957/2015                     सचिन/ए.बा.वि./फोटो 

समाचार

वरिष्ठ नागरिकों के प्रकरणों हेतु निर्देश 

कलेक्टर ने संबंधित अधिकारियों को दिये निर्देश 

बुरहानपुर/15 नवम्बर/ मध्य प्रदेश राज्य वरिष्ठ नागरिक कल्याण आयोग की सिफारिशो के तारतम्य में सामान्य प्रशासन विभाग द्वारा सभी जिलों में वरिष्ठ नागरिकों के प्रकरणों को लोक सेवा गारंटी कार्यक्रमों में सम्मिलित किये जाने के निर्देश दिये गये हैं। 
कलेक्टर श्रीमती जे.पी.आईरीन सिंथिया ने जिले के समस्त विभाग के अधिकारियों से कहा है कि वरिष्ठ नागरिकों के लिये विभाग में संचालित योजनाओं को लोक सेवा गारंटी कार्यक्रम से जोड़ा जाना है। कलेक्टर ने समस्त कार्यालय प्रमुखों को निर्देशित किया है कि योजनाओं का संपूर्ण विवरण प्रारूप, दस्तावेज, शुल्क व निराकरण की प्रक्रिया संबंधी जानकारी लोक सेवा प्रबंधन कार्यालय बुरहानपुर में भेजना सुनिश्चित करें। ताकि वरिष्ठ नागरिकों को शासन की विभिन्न जनकल्याणकारी कार्यक्रमों एवं योजनाओं का लाभ दिलाया जा सकें। 
-------
क्रमांक-41/958/2015                             सचिन/प्रशासन  

समाचार 

अधिकारियों के टेलीफोन और मोबाइल खर्च सीमा पुनर्निर्धारित

बुरहानपुर/15 नवम्बर/ राज्य शासन ने शासकीय अधिकारियों के निवास पर लगे फोन और मोबाइल बिल की व्यय सीमा का पुनर्निर्धारण किया है। वित्त विभाग द्वारा जारी आदेश से अब ऐसे अधिकारी जिनका ग्रेड वेतन 10 हजार या उससे अधिक है, उन्हें फोन, मोबाइल, इंटरनेट सहित 2800 रुपये मासिक राशि की प्रतिपूर्ति हो सकेगी। ऐसे अधिकारी जिनका ग्रेड वेतन 7,600 से अधिक और 8,900 तक है, उन्हें 1500 रुपये प्रतिमाह की प्रतिपूर्ति की जायेगी। रुपये 6,600 या 7,600 तक के ग्रेड वेतन वाले अधिकारी को 800 रुपये प्रतिमाह की प्रतिपूर्ति की जायेगी। वित्त विभाग ने स्पष्ट किया है कि ग्रेड वेतन का आशय मूल पद के ग्रेड वेतन से है। आदेश में यह भी स्पष्ट किया गया है कि कलेक्टर, पुलिस अधीक्षक, पुलिस रेंज के डीआईजी, जिनका ग्रेड वेतन 10 हजार रुपये से कम है, उनकी फोन, मोबाइल और इंटरनेट व्यय की अधिकतम सीमा 1750 रुपये प्रतिमाह होगी। वर्ष में इसकी अधिकतम सीमा 14 हजार रुपये होगी। व्यय की प्रतिपूर्ति के लिये संबंधित द्वारा फोन और मोबाइल नम्बर कार्यालय प्रमुख को प्रस्तुत करने होंगे। लेण्डलाइन फोन तथा पोस्टपेड मोबाइल की स्थिति में यह जरूरी होगा कि वह शासकीय सेवक के नाम से हो। मासिक व्यय सीमा में, मासिक नियत प्रभार, मीटर कॉल चार्जेस, टेक्सेस का व्यय और समस्त प्रभार शामिल होंगे। पुनर्निर्धारण व्यय सीमा आदेश एक नवम्बर, 2015 से प्रभावशील हो गया है।
-------
क्रमांक-42/959/2015                             सचिन/प्रशासन  

समाचार 

शासकीय आवास के अदेय प्रमाण-पत्र की आवश्यकता समाप्त

बुरहानपुर/15 नवम्बर/ राज्य शासन ने शासकीय आवास गृहों में रहने वाले अधिकारी और कर्मचारियों को सेवानिवृत्त होने पर लोक निर्माण विभाग द्वारा दिये जाने वाले आवास गृह के अदेय प्रमाण-पत्र को प्राप्त करने की अनिवार्यता को समाप्त कर दिया गया है। इस संबंध में वित्त विभाग ने आदेश जारी किया है। अब सेवानिवृत्ति की तिथि तक शासकीय अधिकारी/कर्मचारी से आवास किराये की राशि वसूल होने और उक्त तिथि तक किराया बकाया न होने का प्रमाण-पत्र जारी करने का उत्तरदायित्व नियोक्ता विभाग का होगा। इसकी जवाबदारी आहरण एवं संवितरण अधिकारी को सौंपी गयी है। इसी तरह शासकीय सेवक द्वारा जल-कर, विद्युत शुल्क की अंतिम देयक राशि जमा करने की रसीद को ही अमांग प्रमाण-पत्र के रूप में आहरण एवं संवितरण अधिकारी द्वारा मान्य किया जायेगा। अंतिम देयक का आशय शासकीय सेवक द्वारा शासकीय आवास की आधिपत्य से माना जायेगा।
-------
क्रमांक-43/960/2015                             सचिन/प्रशासन  

समाचार 

प्रधानमंत्री बीमा योजनाओं में 30 तक स्वास्थ्य का प्रमाण पत्र जरूरी 

नहीं

बुरहानपुर/15 नवम्बर/ प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना व प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना, के अंतर्गत बगैर स्वास्थ्य के प्रमाण पत्र के पंजीयन कराने की तिथि आगामी 30 नवम्बर तक बढ़ा दी गई है। इसके बाद पंजीयन कराने पर आवेदक को अच्छे स्वास्थ्य का प्रमाण पत्र प्रस्तुत करना अनिवार्य होगा। कलेक्टर श्रीमती जे.पी.आईरीन सिंथिया ने जिले के सभी नागरिकों से 30 नवम्बर के पूर्व उक्त योजनाओं में पंजीयन कराने का आव्हान किया है। 
-------
क्रमांक-44/961/2015                             सचिन/प्रशासन  

समाचार 

अऋणी कृषकों को भी मिलेगा फसल बीमा योजना का लाभ

बुरहानपुर/15 नवम्बर/ आयुक्त सहकारिता श्री मनीष श्रीवास्तव द्वारा सहकारिता विभाग के समस्त अधिकारियों के साथ वीडियो कान्फ्रेसिंग के माध्यम से ली गई बैठक में मंथन के अंतर्गत दिये गये कार्यक्रम क्रियान्वयन पर चर्चा की गई । शासन की मंशा के अनुरूप प्रदेश भर के सभी किसानों को प्राथमिक सहकारी संस्था का सदस्य बनाने हेतु विशेष अभियान चलाया जायेगा । सहकारी संस्थाओं के सदस्य बनने के बाद किसानों को मध्यप्रदेश शासन की बिना ब्याज कर्जे की सहायता मिल सकेगी । किसानों को अमानक खाद व बीज से समय समय पर बड़ी हानि झेलनी पड़ती है । शासन किसानों की इस व्यथा से चिंतित है । अब प्राथमिक सहकारी संस्था का सदस्य बनने पर किसानों को अच्छी गुणवत्ता का प्रमाणिक खाद व बीज उचित दामों पर मिल सकेगा । किसानों को भविष्य में शासन की अन्य कृषक हितैषी योजनाओं का लाभ भी मिलेगा । 
फसल बीमा सोसायटी द्वारा दिये जाने वाले ऋण से संबंधित होने से बहुत से कृषक स्वतरू पहल करके अपनी फसलों का बीमा नहीं करा पाते । ऐसी स्थिति में फसल को होने वाले नुकसान की भरपाई न होने से किसान आर्थिक तंगी के दुष्चक्र में फंस जाता है । इसे देखते हुए अब सहकारी बैंक अऋणी कृषकों का भी बीमा करेंगे । यह सुविधा किसानों को उनके क्षेत्र की सोसायटी में ही उपलब्ध हो जायेगी । 
किसानों को आय के वैकल्पिक साधन उपलब्ध कराने के लिये बागवानी फसलों पर विशेष ध्यान दिया जा रहा है। अब प्रदेश भर में फल फूल साग भाजी संस्थाओं का गठन किया जा रहा है । इन संस्थाओं को साँची मिल्क रूट की तर्ज पर विपणन केन्द्रों से जोड़ा जायेगा । इस प्रकार किसानों को एक और नगद ऋण खाद बीज आदि की सहायता सोसायटी से मिलेगी, वहीं उनके द्वारा उत्पादित  फल-फूल साग भाजी को उनके गांव में ही उचित दाम पर मिलेगा । उपभोक्ताओं को भी कीमतों के उतार-चढ़ाव से राहत मिलेगी । 
सहकारिता आयुक्त ने इन क्षेत्रों में पूर्ण मनोयोग से कार्य करने हेतु अधिकारियों को आदेशित किया है और कार्य योजना पर विस्तृत चर्चा एवं कार्यों की समीक्षा हेतु 26 नवम्बर को विंध्याचल भवन में बैठक भी बुलाई है । यहां यह उल्लेखनीय है कि आयुक्त सहकारिता श्री मनीष श्रीवास्तव एवं प्रमुख सचिव सहकारिता श्री अजीत केसरी द्वारा सहकारिता को नए क्षेत्रों में लाने के लिये निरंतर प्रयास किया जा रहा है तथा सेवा प्रदाता पर्यटन, भंडारन, वैकल्पिक ऊर्जा आदि क्षेत्रों में कार्य दलों का गठन किया गया है । 
-------
क्रमांक-45/962/2015                              सचिन/सह. 

समाचार 

राज्य स्तरीय महिला पुरस्कारों के लिये आवेदन आमंत्रित

बुरहानपुर/15 नवम्बर/ महिलाओं के लिए सकारात्मक वातावरण बनाने और सामाजिक गतिविधियों में योगदान करने वालो के लिए राज्य स्तरीय पुरस्कार रानी अवंतिबाई वीरता और राजमाता विजयाराजे सिंधिया समाजसेवा पुरस्कार के लिए आवेदन आमंत्रित किए गए है। पुरस्कार 8 मार्च अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर प्रदान किए जाएंगे। 
जिला महिला सशक्तिकरण अधिकारी ने इस सम्बंध में जानकारी देते हुए बताया कि रानी अवंतिबाई वीरता पुरस्कार ऐसी महिलाआंे एवं बालिकाओं को प्रदान किया जाएगा। जिन्होंनेे किसी भी क्षेत्र मंे अदम्य साहस एवं अद्भुत वीरता का प्रदर्शन अपनी जान जोखिम में डालकर किया है। जबकि राजमाता विजयाराजे सिंधिया समाजसेवा पुरस्कार ऐसी समाजसेवी महिलाओं को प्रदान किया जाएगा जिन्होंने महिलाओं के विकास, कल्याण तथा सामाजिक उत्थान के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य किया हो। अतः उक्त श्रेणी की महिलाओं के नामांकन, चयन हेतु प्रमाणित दस्तावेजों के साथ आवेदन पत्र जिला महिला सशक्तिकरण अधिकारी के कार्यालय में कार्यालयीन दिवसो में 20 नवम्बर तक जमा किए जा सकते है।
-------
क्रमांक-46/963/2015                              सचिन/म.स. 

समाचार 

‘‘बुरहानपुर उत्सव‘‘ संबंधी बैठक आज 

बुरहानपुर/15 नवम्बर/- आगामी 26, 27 एवं 28 नवम्बर 2015 को ‘‘बुरहानपुर उत्सव‘‘ मनाया जायेगा। 
इस संबंध में कलेक्टर श्रीमती जे.पी.आईरीन सिंथिया की अध्यक्षता में बैठक आयोजित की गई है। बैठक का आयोजन कलेक्टोरेट सभागार में आज 16 नवम्बर 2015 को सांयकाल 4 बजे किया गया है। 
-------
क्रमांक-47/964/2015                              सचिन/प्रशासन 

No comments:

Post a Comment